मोहम्मद का नाबालिक से शादी का सच? उम्र में बड़ी महिला से शादी करके Mohammad से बने पैगम्बर

मोहम्मद का नाबालिक से शादी का सच? उम्र में बड़ी महिला से शादी करके Mohammad से बने पैगम्बर

1
198
Mohammad
मोहम्मद का नाबालिक से शादी का सच उम्र में बड़ी महिला से शादी करके Mohammad से बने पैगम्बर

पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन की ख़ुशी में ईद-ए-मिलाद-उन-नबी मनाया जाता है. पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन की खुशी में यह दिन सेलिब्रेट किया जाता है. आइए पैगंबर मोहम्मद (Mohammad Paigambar) के जीवन पर एक प्रकाश डालते है और जानते है कि पैगंबर मोहम्मद (Mohammad Paigambar) ने अपने जीवन में कितनी शादियाँ की और उनमें नाबालिक के बारे में जानिए.

पैगंबर मोहम्मद का परिचय

570 ईस्वी में अरब के रेगिस्तान के शहर मक्का में पैगंबर मोहम्मद (Mohammad Paigambar) का जन्म हुआ. पैगंबर साहब के जन्म से पहले ही उनके पिता का निधन हो चुका था. जब वह 6 वर्ष के थे तो उनकी मां की भी मृत्यु हो गई. मां के निधन के बाद पैगंबर मोहम्मद अपने चाचा अबू तालिब और दादा अबू मुतालिब के साथ रहने लगे. इनके पिता का नाम अब्दुल्लाह और माता का नाम बीबी आमिना था.

hindilibraryindia की रिपोर्ट के अनुसार बचपन से ही हजरत गम्भीर स्वभाव के, कम तथा मीठा बोलने वाले थे, जबकि अरब के लोग दगाफरेब, झूठ बोलने में अपना जीवन बिताते थे । उनकी सचाई को देखकर लोग उन्हें अल-अमीन, अर्थात् सच्चा ईमानदार अथवा सत्यव्रती कहते थे । बचपन से उनमें सन्तों के समकक्ष गुण थे ।

उनके समय में अरब में स्त्रियों पर विभिन्न प्रकार के अत्याचार हो रहे थे । झूठ, फरेब, आतंक का बोलबाला था । लोग अन्धविश्वासों में डूबे हुए थे । बड़े होने पर मोहम्मद साहब (Mohammad Paigambar) ने रोजगार, व्यापार करने का कार्य शुरू किया । धन्धे में ईमानदारी पर उन्हें बेहद विश्वास था।

केवल 25 साल के थे मोहम्मद (Mohammad Paigambar) जब उन्होंने पहली शादी की, यह शादी उन्होंने उस महिला के साथ की जिसके साथ उन्होंने इतिहास बनाया. चलिए जानते है कैसा रहा मोहम्मद साहब (Mohammad Paigambar) का वैवाहिक जीवन-

ख़दीजा के तीसरे पति थे मोहम्मद

मैनचेस्टर (ब्रिटेन) की एक मस्जिद के इमाम असद जमां मध्य-पूर्व के एक देश जिसे अब शउदी अरब के नाम से जाना जाता है में छठी सदी में पैदा हुईं एक महिला ख़दीजा बारे बताते हुए कहते हैं कि ख़दीजा का काफ़ी सम्मान था. वह धनी भी थीं और ताक़तवर भी. तमाम प्रतिष्ठित लोगों ने उनके सामने शादी के प्रस्ताव रखे लेकिन उन्होंने इनमें से अधिकांश को ठुकरा दिया. आख़िरकार उन्होंने दो शादियां कीं. उनके पहले पति का निधन हो गया और माना जाता है कि दूसरे पति से उन्होंने ख़ुद अलग होने का फ़ैसला किया था.

पहली शादी से बने मोहम्मद से पैग़ंबर

इसके बाद उन्होंने तय किया कि अब फिर कभी शादी नहीं करेंगी. लेकिन थोड़े वक्त के बाद उनकी ज़िंदगी में एक तीसरा शख़्स आया, जो उनका आख़िरी पति साबित होने वाला था.

जमां का कहना है कि “ख़दीजा ने उनमें कुछ अद्भुत गुण देखे थे. इसके बाद ही उन्होंने फिर कभी शादी न करने का फ़ैसला बदल दिया था. ख़दीजा ने उस जमाने के चलन के उलट ख़ुद उनका चुनाव कर शादी का प्रस्ताव रखा था. उस वक़्त वह 40 साल की थीं और उनके होने वाले पति 25 साल के. वह एक साधारण परिवार से ताल्लुक रखते थे.”

न केवल एक महिला और पुरुष के बीच प्रेम संबंध का मामला बल्कि इसका दायरा कहीं बड़ा है. इन दोनों के रिश्ते से निया के दूसरे सबसे बड़े धर्म का उद्भव जुड़ा है. ख़दीजा के नए पति का नाम था मोहम्मद (Mohammad Paigambar), जो आगे चल कर इस्लाम के पैग़ंबर बने.

न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी में मध्य पूर्व के प्राचीन इतिहास के प्रोफ़ेसर रॉबर्ट हॉयलैंड का कहना है कि ख़दीजा के बारे में पूरा ब्यौरा मिलना मुश्किल है. ख़दीजा के निधन के काफ़ी साल बाद उनके बारे में कुछ लिखा गया. उनके बारे में जो भी जानकारी है वह इन्हीं स्रोतों पर आधारित है.

वह बंधन में रहना पसंद नहीं करती थीं. वह काफ़ी मज़बूत इरादों वाली महिला थीं. उदहारण के लिए आपको बता दे कि उनके परिवार में एक यह परंपरा चली आ रही थी, अपने रिश्तों के भाइयों (कजिन) से शादी करवा दिया करते थे, लेकिन ख़दीजा ने शादी करने से इनकार कर दिया था. वह ख़ुद अपना जीवनसाथी चुनना चाहती थीं.

वह अपनी राह पर चलती थीं. दरअसल, कारोबार में उनकी जो लियाकत थी, उसने उन्हें एक नई राह दिखाई और आख़िर में इसने दुनिया का इतिहास ही बदल दिया.”

मोहम्मद और आयशा की शादी की उम्र को लेकर इस्लामी विद्वान भी एकमत नहीं

मोहम्मद की शादी 6 साल की आयशा से ?

गौरतलब है कि हजरत मोहम्मद और उनकी बीवी हज़रत आयशा (Aisha) की उम्र को लेकर हमेशा ही विवाद रहा है, जबकि हकीकत यह है कि शादी के वक्त हजरत आयशा (Aisha) की उम्र को लेकर इस्लामी विद्वान भी एकमत नहीं हैं.
zee सलाम की रिपोर्ट के मुताबिक, हजरत मोहम्मद साहब से हजरत आयशा (Aisha) की जब शादी हुई थी, तब उनकी उम्र 6 साल थी और जब उनकी रुखसती हुई तो उनकी उम्र 9 साल कुछ माह की थी.

सही बुखारी (हदीस) के मुताबिक, हमारे नबी से निकाह के वक्त हज़रत आयशा (रजि.) की उम्र 6 साल थी और नबी की उम्र 53 साल की थी मगर उनकी रुख्सती 9 साल की उम्र में तब हुई जब वह शारीरिक रूप से बालिग हो गईं और रुखसती का यह पैगाम उनकी मां ने ही भिजवाया था.

आयेशा से शादी 6 या 19 साल में ?

जामिया मिलिया से इस्लामिक अध्ययन में मास्टर, आलिम और इस्लामी मामलों के जानकार अबरार अहमद कहते हैं, “इस्लामिक वर्ल्ड में रिसर्च बहुत कम हुए हैं. मौलवियों ने सुनी-सुनाई और आम तौर पर कायम तारीखी रिवायतों को ज्यादा फॉलो किया है. दरअसल, मोहम्मद साहब और आयशा की शादी कोई अचानक नहीं हुई थी, इसे लेकर एक पूरा प्रसंग हैं. उनकी पहली पत्नी की मौत के लगभग 10 सालों बाद आयशा (Aisha) से शादी तय हुई थी. कुरान में लड़कियों की प्यूबर्टी (बलूगत) आने के पहले शादी से मना किया गया है, तो पैगम्बर साहब की शादी कुरान के आदेशों के खिलाफ नहीं हुई होगी. दूसरा कि वह खुद जंग में 15 साल से कम उम्र के लोगों को हिस्सा लेने से मना करते थे. जब जंगे उहद 3 हिजरी में हुई, उस वक़्त हजरत आयशा (Aisha) 15 साल की उम्र पार कर के जंग में शामिल हुईं थी. आयशा (Aisha) जंग में सैनिकों के लिए पानी का इंतजाम करती थी. किसनीजी (चमड़े से बना एक बैग जिसमें 20 से 25 लीटर तक पानी आता था) लेकर वह जंग के मैदान में हाजिर रहती थीं. इस तथ्य से यह साफ़ है की 6 या 9 साल में उनकी शादी की बात सही नहीं है.

अबरार अहमद कहते हैं, “कुछ दलीलें और ऐतिहासिक रूप से इस संदर्भ में मौजूद प्रमाण शादी के वक्त हज़रत आयशा (Aisha) (रजि.) की उम्र 19 वर्ष सिद्ध करती हैं. तमाम इतिहासकार इसपर सहमत हैं कि हज़रत आयशा (Aisha) (रज़ि.) की बड़ी बहन हज़रत अस्मा (रज़ि.) उनसे दस साल बड़ी थीं. उनकी मौत सन 73 हिजरी में 100 साल की उम्र में हुई यानी हिजरी वर्ष आरम्भ होने के समय उनकी उम्र 27 या 28 साल थी, तो इस लिहाज से आयशा (Aisha) की उम्र भी 17-18 से कम नहीं रही होगी. कुछ विद्वान इसे लेखन त्रुटि भी मानते हैं. उसमें वह अरबी गिनती अशरे को इस त्रुटि का जिम्मेदार बताते हैं.

मोहम्मद (Mohammad Paigambar) ने 25 साल तक अपनी पहली पत्नी, खदीजा बिंत खुवेलाइद से शादी की, 619 ईस्वी में खदीजा की मृत्यु के बाद, उन्होंने समय के साथ कई महिलाओं से शादी की, जिनमें से ज्यादातर विधवा थीं। Quora question answer के एक आर्टिकल के अनुसार जिन महिलाओ से मोहम्मद (Mohammad Paigambar) ने शादी की उनकी सूचि इस प्रकार है –

  1. खदीज़ा बिन्त खालिद
  2. सावदा बिन्त ज़मा
  3. आयशा बिन्त अबू बक्र
  4. हफ्शा बिन्त उमर
  5. ज़ैनब बिन्त खुज़ायमा
  6. रामल्लाह बिन्त अबू सूफयान
  7. हिन्द बिन्त अबू ओमाया
  8. जैनब बिन्त ज़ैश
  9. जुवारिया बिन्त अल हरीथ
  10. मैमुना बिन्त अल हरीथ
  11. सफिया बिन्त हुयाह
  12. मारिया अल किब्तेयाह
  13. रेहाना बिन्त ज़ायेद