कोर्ट में पेश हुई कंगना (Kangana) जावेद अख्तर की बढ़ाई मुस्किले, काउंटर कंप्लेंट भी दर्ज करवाई…

0
362
Kangna Ranaut
Kangna And Javed

20 सितंबर को जावेद अख्तर डिफेमेशन केस में कंगना रनौत अंधेरी मेट्रोपॉलिटन मैजिस्ट्रेट के सामने पेश हुईं. 14 सितंबर को की गई सुनवाई में कंगना कोर्ट नहीं पहुंची थी, कोर्ट ने सुनवाई को 20 सितंबर तक के लिए टाल दिया था . अगर कंगना 20 सितंबर को कोर्ट नहीं जाती, तो उनके खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया जा सकता था. खैर, सोमवार को हुई सुनवाई के दौरान कंगना ने जावेद अख्तर के खिलाफ एक्सटॉर्शन और क्रिमिनल इंटीमिडेशन मामले में काउंटर कंप्लेंट दर्ज करवा दी है और अपने वकील कि मदद से केस की सुनवाई को दूसरे मैजिस्ट्रेट के पास ट्रांसफर करवाने की मांग भी की है.

20 सितंबर को की गई सुनवाई में कंगना मैजिस्ट्रेट आर.आर. खान के सामने पेश हुईं है, मामले की सुनवाई के दौरान वकील रिज़वान सिद्दीकी ने कहा कि उन्हें बिना वजह बताए कोर्ट में पेश होने को क्यों कहा जा रहा है. ”मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूं कि मेरा इस कोर्ट से भरोसा उठ गया है.” इस लिए केस की सुनवाई को दूसरे मैजिस्ट्रेट के पास ट्रांसफर कर दिया जाये.

कंगना के वकील रिज़वान सिद्दीकी ने इस केस को दूसरे मैजिस्ट्रेट के पास ट्रांसफर करने की अर्जी डालते हुए जावेद अख्तर पर IPC की धारा 383, 384, 387, 503 और 506 के तहत काउंटर कंप्लेंट भी दर्ज करवाई,

सोमवार की सुनवाई के बाद कोर्ट ने अगली सुनवाई 15 नवंबर, 2021 तक के लिए स्थगित कर दी है जावेद अख्तर के वकील जय भारद्वाज और प्रिया अरोड़ा ने इस पर अपनी आपत्ति जाहिर की. इसके जवाब में कोर्ट ने कहा कि वो ये समय इसलिए दे रहे हैं, ताकि जावेद अख्तर कंगना द्वारा दायर किए गए काउंटर कंप्लेंट के बारे में सोच-विचार कर अपना जवाब तैयार कर सकें.

दरअसल मामला यह है कि एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद कंगना ने जावेद अख्तर पर कई इल्ज़ाम लगाए थे. एक टीवी इंटरव्यू के दौरान कंगना ने जावेद को सुसाइड गैंग का सदस्य कहा था. जो ‘आउटसाइर्स’ को आत्महत्या के लिए उकसाते हैं. जिसके बाद जावेद अख्तर ने कंगना के खिलाफ कोर्ट में मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया, जिसके बाद दिसंबर 2020 में कोर्ट ने पुलिस को इन्क्वायरी करने का आदेश दिया शुरुआत कि जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने जावेद के द्वारा कंगना (Kangna Ranaut) पर लगाए आरोपों को सही बताते हुए कहा कि इस मामले कि आगे जाँच होनी चाहिए. इसके बाद कोर्ट ने कंगना पर कार्येवाही कि और फरवरी 2021 में उन्हें समन भेजा गया, कंगना ने इस कार्येवाही को रद्द करवाने के लिए जुलाई 2021 में बॉम्बे हाई कोर्ट में अपील की. और बॉम्बे हाई ने 1 सितंबर, 2021 को कंगना की याचिका ख़ारिज की.