मुस्लिम लड़की (Muslim Women) को हिन्दू लड़के के साथ बाइक पर देख, बदमासो ने की बदतमीजी, वीडियो वायरल…..

मुस्लिम (muslim women) लड़की को हिन्दू लड़के के साथ बाइक पर देख, बदमासो ने की बदतमीजी वीडियो वायरल

0
1063
Muslim Women
insolence with muslim women and hindu boy ( screenshots from original video)

तेलंगाना के निजामाबाद इलाके की एक मुस्लिम लड़की (Muslim Women) को आदिवासी लड़के साथ बाइक पर बैठकर कर जाते हुए देख वहां के स्थानीय मुस्लिम लड़को ने उन्हें रोक लिया और दोनों के साथ अभद्र व्यवहार किया यहाँ तक की दोनों के साथ धक्का-मुक्की करते नजर आये.

वायरल वीडियो का सच –
कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुई, जिसमे कुछ लोग एक मुस्लिम लड़की (muslim women) और हिन्दू लड़के साथ दुर्वयवहार करते नजर आ रहे है.
वीडियो में कुछ लोग दोनों को धमकाते नजर आ रहे है जिसमे युवती से कह रहे है कि वो अपनी कौम को बदनाम कर रही है .

कौम को बदनाम करने का आरोप –
वीडियो में नजर आ रहे बाइक सवार युवक व बुर्क़ा पहने युवती को रोका जाता है युवती बाइक से उतर कर वही खड़ी दिखती है, कुछ लड़के इन दोनों को घेर कर खड़े नजर आ रहे है, घेरा बनाये लड़के लड़की (muslim women) से कहते है कि वो ‘कौम को नाम बदनाम कर रही है’ इसके बाद वे लड़के को बाइक से उतार लेते हैं. उसको गाली देते हैं, थप्पड़ मारते हैं. ऐसा होते देख लड़की उनके हाथ जोड़ती है और अपने साथी को छोड़ देने को बोलती है. लेकिन आरोपी सिर्फ कौम को बदनाम करने का आरोप लगाते हुए उनके साथ अभद्रता से पेश आते रहे.

घटना के 3 दिन बाद FIR –
घटना के 3 दिन बाद 11 सितंबर को FIR दर्ज हुई तो डीएसपी बोधन ने मीडिया से कहा कि अब तेलंगाना पुलिस ने वीडियो में नजर आ रहे 4 आरोपियों की पहचान करते हुए गिरफ्तार कर लिया है, पुलिस का कहना है कि पीड़ित लड़का और लड़की (muslim women) अलग-अलग समुदायों से ताल्लुक रखते हैं दोनों एक साथ काम करते है दोनों काम से कहीं एक साथ जा रहे थे तभी रोड पर चलती कार में बैठे 4 लड़को ने दोनों को साथ जाते देखा. जाहिर सी बात है कि यह 4 लड़के भी मुस्लिम थे. तो उनसे यह बर्दास्त नहीं हुआ कि उनके कौम कि लड़की किसी गैर धर्म वाले लड़के के साथ घूमे, दोनों को रोका गया, विवाद के बाद लड़की ने अपने भाई को फ़ोन कर बुलाया लड़की का भाई मौके पर पहुंचा और आरोपियों को समझाया कि वे निजामाबाद जिले के एक कॉलेज में काम करते हैं, तब जाकर दोनों को छोड़ा गया.

सूत्रों की माने तो दोनों पीड़ित IIT हैदराबाद के लिए आउटसोर्सिंग पर काम करते हैं. उन्हें काफी कम सैलरी मिलती है, जबकि सरकारी आदेश के तहत हर महीने 15 हजार रुपये वेतना मिलता है. इसी सरकारी आदेश की प्रति लेने के लिए युवक-युवती साथ में सरकारी कार्यालय जा रहे थे. ताकि आदेश दिखाकर संबंधित अधिकारी से उचित सैलरी की मांग कर सकें. लेकिन वे ऐसा करते उससे पहले ही आरोपी युवकों ने उन्हें रास्ते में रोक लिया.

क्या हिन्दू मुस्लिम होना गुनाह ? –
सिर्फ जाति और धर्म के आधार पर लोगो के साथ बदसलूकी इंसान का हिन्दू या मुसलमान होना क्या उसकी इंसानियत को साबित कर सकता है?, हम एक ऐसे समाज में रहते है जहाँ सिर्फ जाति और धर्म के आधार पर लोगो के साथ बदसलूकी की जा सकती है. क्या यह सही है? खेर इसका जवाब हम आप पर छोड़ते है, लेकिन दो लोग अगर दोस्त है जो की दो अलग-अलग धर्म को मानते है. अगर वो एक दूसरे के साथ खुश है तो इसमें दुनिया को क्या आपत्ति हो सकती है, लेकिन कभी-कभी हमें अपने आस-पास या सोशल मीडिया के जरिये ऐसी खबरे देखने को मिलती है जिसमें हम इंसानियत को मरते देखते है.