Gang rape की शिकायत दर्ज करवाने गई दलित बच्ची से थानेदार ने किया बलात्कार…

Gangrape की शिकायत दर्ज करवाने गई दलित बच्ची से थानेदार ने किया बलात्कार...

0
705
Rape
Gangrape की शिकायत दर्ज करवाने गई दलित बच्ची से थानेदार ने किया बलात्कार...

उतरा प्रदेश (UP): एक 13 साल की बच्ची, से 2 बार रैप (Rape) करने का मामला सामने आया है, घटना उत्तर प्रदेश के ललितपुर ज़िला से है, एक 13 साल की बच्ची, जो अपने साथ कथित गैंगरेप (Gangrape) मामले में बयान दर्ज कराने थाने आई थी. लेकिन आरोप है कि वहां पर थानेदार ने भी उसका रेप किया. घटना यहां के पाली थाने की है. थानेदार को सस्पेंड कर केस कर दिया गया है. थे लल्लन टॉप की रिपोर्ट के अनुसार मामले की जांच जारी है.

आजतक से जुड़े मनीष सोनी की रिपोर्ट के मुताबिक बच्ची का आरोप है कि उसके गांव के ही चार लोग बहला-फुसलाकर उसे 22 अप्रैल को भोपाल ले गए थे. जहाँ उन्होंने तीन दिन उसे अपने साथ रखा और वहां बलात्कार (Gangrape) किया. फिर उसे वापस पाली छोड़कर फरार हो गए. मामले में पुलिस जाँच कर रही है.

शिकायत दर्ज करवाने गई बच्ची के साथ थानेदार ने किया रैप (Rape)

बच्ची की माँ द्वारा दर्ज शिकायत के अनुसार 27 अप्रैल 2022 की सुबह बच्ची को थाने बुलाया गया था, थाने में बच्ची का बयान लिया गया और शाम को थानेदार ने बच्ची को अकेले कमरे में जाकर उसका रेप (Rape) किया. जानकारी के मुताबिक बच्ची की मौसी उसे थाने लेकर गई थी, इस बात की बच्ची के माता पिता को खबर नहीं थी. आरोपी थानेदार ने बच्ची का रैप (Rape) करने के बाद उसकी मौसी को सौंप दिया गया.

पुलिस द्वारा कुल 6 लोगों को इसमें नामित किया गया

ललितपुर जिले के पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक का कहना है कि “एक बच्ची अपनी मां के साथ पुलिस ऑफिस आई थी. उनके द्वारा एक तहरीर दी गई थी. तहरीर में उन्होंने ये कहा था कि 22 अप्रैल को लड़की को कुल 4 लड़के अपने साथ लेकर गए थे और उनके साथ बलात्कार किया. बलात्कार के बाद जब वो वापस पाली आईं, तो उनका ये कहना था कि जब थाने पर उनको लाया गया, तो फिर थानाध्यक्ष ने भी उनके साथ दुष्कर्म किया.”

बच्ची को चाइल्ड लाइन भेजा गया था, जहां काउंसलिंग के दौरान उसने अपने साथ हुई पूरी घटना बताई. चाइल्ड लाइन की टीम ने पुलिस अधीक्षक से इसकी शिकायत की.

पुलिस अधीक्षक द्वारा जल्द गिरफ़्तारी का आस्वाशन

पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक ने बताया है कि “इस मामले को संज्ञान में लेकर पुलिस द्वारा इस पूरे प्रकरण में एफआईआर रजिस्टर की गई है. कुल 6 लोगों को इसमें नामित किया गया है. इसमें से एक अभियुक्त को हम लोगों ने पकड़ा है. उससे पूछताछ चल रही है. इसके अलावा बाकियों अभियुक्तों के लिए भी हमने टीमें लगाई हैं. उनकी गिरफ्तारी शीघ्र ही की जाएगी. थाना इंचार्ज को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है.” इस मामले में पाली थाना इंचार्ज सहित 6 लोगों के खिलाफ धारा 363, 376, 376 B, 120 B , POCSO एक्ट और SC/ST एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.