Ukraine लड़की का रेप, पिता बोले – पुतिन के हत्यारे सैनिकों ने बेटी के नाखून तक उखाड़े…

Ukraine लड़की का रेप, पिता बोले - पुतिन के हत्यारे सैनिकों ने बेटी के नाखून तक उखाड़े...

0
137
Ukrain
Ukraine लड़की का रेप, पिता बोले - पुतिन के हत्यारे सैनिकों ने बेटी के नाखून तक उखाड़े...

रूस-यूक्रेन (Russia ukraine) के जंग के बीच रुह कंपाने वाली खबर सामने आई है। यहां व्लादिमीर पुतिन के सैनिकों ने 23 साल की यूक्रेनी (ukraine) महिला करीना येर्शोवा का दुष्कर्म किया। फिर, उसके सिर में गोली मार दी। उसके माता-पिता ने बताया कि उनकी बेटी के पूरे शरीर पर जख्म के निशान थे और उसकी आंखों में आंसू भरे थे। पिता ने दावा किया कि रूसी (Russia) सैनिकों की यातना के कारण मेरी बेटी का शरीर क्षत-विक्षत मिला था। उसकी उंगलियों से नाखून तक उखाड़ दिए गए थे।

यूक्रेन (ukraine) की फर्स्ट लेडी और राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की की पत्नी ओलेना जेलेंस्का ने युद्ध में महिलाओं की दयनीय स्थिति बयां की है। उन्होंने बताया कि जंग के बीच महिलाओं की स्थिति बदतर होती जा रही है।

रूसी (Russia) सैनिकों ने महिला के साथ की बर्बरता –
महिला के 40 वर्षीय पिता एंड्री डेरेन्को ने बताया कि रूसी (Russia) सैनिकों ने उसके साथ बहुत बर्बरता की है। वह अपनी तरफ से उनसे लड़ने की पूरी कोशिश की लेकिन वह अपने आपको नहीं बचा पायी। इस महिला का शरीर यूक्रेन के बूचा शहर में पाया गया था। रूसी (Russia) सेना पर बूचा शहर में नरसंहार करने के आरोप लगे थे। दावा किया गया था कि रूसी (Russia) सेना की वापसी के बाद इस शहर से 400 शव बरामद किए गए थे। ये शव सड़कों, बिल्डिंगों के अलावा सामूहिक कब्रों में मिले थे।

मां को नहीं दिखाया गया बेटी का शव –
पिता ने कहा कि रूसी (Russia) सैनिकों ने उसकी बेटी के सिर में गोली मारी थी। जिससे उसके सिर का आधा हिस्सा गायब था। परिवार ने बिला त्सेरकवा शहर में अपनी बेटी के लिए एक अंतिम संस्कार समारोह आयोजित किया था। अपनी इकलौती बेटी के ताबूत को देख मां बेहोश हो गई। वहां मौजूद परिवार के बाकी सदस्यों ने मां को संभाला और अंतिम संस्कार किया। मां अपनी बेटी के कटे-फटे शरीर को देखने के लिए ताबूत खोलने की जिद कर रही थी, लेकिन परिवार के लोगों ने ऐसा करने से मना कर दिया।

यूक्रेन (ukraine) ने दावा किया है कि कीव में 720 नागरिकों के शव मिले हैं। वहीं 200 लोग लापता हैं।

पुतिन के शासन ने जिंदगी तहस-नहस की –
महिला का परिवार पूर्वी यूक्रेन (ukraine) के डोनेट्स्क इलाके का रहने वाला था। लेकिन, 2014 में मास्को समर्थक अलगाववादियों और यूक्रेनी सेना के बीच जंग के कारण 2014 में वे डोनेट्स्क छोड़कर बूचा में आकर बस गए थे। रूसी भाषा बोलने वाले परिवार ने कहा कि वे अब रूस से ‘नफरत’ करते हैं क्योंकि व्लादिमीर पुतिन के शासन ने उनके जीवन को दो बार तहस-नहस किया है।

शरीर पर आंसू और घाव के निशान –
महिला के पिता ने बताया कि ‘हमने उसके शरीर का पोस्टमार्टम नहीं करवाया है, सिर्फ ऊपरी हिस्सा देखा है, लेकिन हमने ऊपर जो देखा है। हम केवल कल्पना कर सकते हैं कि उसके शरीर के बाकी हिस्सों पर क्या हो सकता है। उसे इतनी बुरी तरह जलाया गया था कि उसके हाथ की हड्डियां तक दिखाई दे रही थीं। हालांकि, उसके हाथ में पहनी गई चांदी की अंगूठी वैसे ही बरकरार थी। चेहरे पर आंसू और घाव के निशान थे।

यूक्रेन से जान बचाकर भागी महिलाएं नहीं हैं सुरक्षित –
यूक्रेन से जान बचाकर दूसरे देश में शरण लेने वाली महिलाओं और लड़कियों के साथ दरिंदगी होने की भी खबरें आ रही हैं। रूस के हमला करने से लेकर अब तक 40 लाख से ज्यादा लोगों ने यूक्रेन छोड़कर भाग गए हैं। इनमें सबसे अधिकांश संख्या महिलाओं और बच्चों की है। अब यूक्रेन के शरणार्थी बच्चे और महिलाएं तस्करी और सेक्शुअल अटैक के शिकार हो रहे हैं।

युद्ध छिड़ने के वक्त 2.65 लाख यूक्रेनी (ukraine) महिलाएं गर्भवती थीं। इनमें से 80 हजार बच्चों का जन्म अगले तीन महीने में होना है। हालात यह है कि गर्भवतियों को ठंडे, जर्जर बेसमेंट या भीड़ भरे सब-वे स्टेशनों पर डिलीवरी के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

गर्भवती महिलाओं को भी नहीं छोड़ रहे रूसी सैनिक –
अब इस तरह के मामलों को अंतरराष्ट्रीय अदालत में ले जाने की योजना बनाई जा रही है। यूक्रेन (ukraine) में ह्यूमन राइट अधिकारी ल्यूडमिला डेनिसोवा का कहना है कि वे ऐसे मामलों की सूची बना रहीं हैं। ल्यूडमिला ने बताया कि बुचा में 14 से 24 साल की 25 से ज्यादा लड़कियों और महिलाओं के साथ हैवानियत की गई। इनमें से 9 महिलाएं गर्भवती हैं।