ODI cricket में सबसे तेज 3000 रन पूरे करने वाली भारतीय महिला खिलाडी…Smriti Mandhana

क्रिकेटर स्मृति मंधाना (Smriti Mandhana) का जन्म 18 जुलाई 1996 को मुंबई (महाराष्ट्र) में हुआ था. उनके माता का नाम स्मिता (Smriti Mandhana) और पिता का नाम श्रीनिवास मंधाना हैं. उनके परिवार में माता पिता के अलावा एक भाई श्रवण हैं. जब स्मृति दो साल ही थी तबहीं उनके माता पिता माधवनगर, सांगली में बस गए थे.

0
821
Smriti Mandhana
ODI cricket में सबसे तेज 3000 रन पूरे करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाडी...Smriti Mandhana

IND Women Vs ENG Women: इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए दूसरे वनडे मुकाबले में भारत की स्टार ओपनर स्मृति मंधाना ने बेहद ही खास मुकाम हासिल किया है. स्मृति मंधाना (Smriti Mandhana) वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 3000 रन पूरे करने वाली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं. इससे पहले भारत की ओर से शिखर धवन और विराट कोहली ने वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 3000 वनडे रन पूरे किए हैं.

ABP न्यूज़ के अनुसार बाएं हाथ की सलामी बल्लेबाज ने 2013 में वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया. उनका इस प्रारूप में पांच शतक और 24 अर्धशतक हैं, और मिताली राज और हरमनप्रीत कौर के बाद प्रारूप में 3000 रन तक पहुंचने वाली तीसरी भारतीय महिला खिलाड़ी हैं. सबसे तेज भारतीय महिला क्रिकेटर के मामले में, मंधाना ने पूर्व कप्तान मिताली को पीछे छोड़ दिया, जिन्होंने 88 पारियों में 3000 रन की उपलब्धि हासिल की थी. तो चलिए इस खास मौके पर आज हम स्मृति मंधाना जीवन के बारे में जानेंगे….

बिंदु (Points) जानकारी (Information)
नाम (Name)स्मृति मंधाना (Smriti Mandhana)
जन्म (Date of Birth)18 जुलाई 1996
आयु (Age)26 वर्ष (2022 तक )
जन्म स्थान (Birth Place)मुंबई, महाराष्ट्र
पिता का नाम (Father Name)श्रीनिवास मंधाना
माता का नाम (Mother Name)स्मिता मंधाना
पेशा (Occupation )क्रिकेटर
भाई-बहन (Siblings)एक भाई
अवार्ड (Award)अर्जुना पुरुस्कार

स्मृति मंधाना जन्म और पर्सनल लाइफ (Smriti Mandhana Born, Family and Personal Life )

क्रिकेटर स्मृति मंधाना (Smriti Mandhana) का जन्म 18 जुलाई 1996 को मुंबई (महाराष्ट्र) में हुआ था. उनके माता का नाम स्मिता (Smriti Mandhana) और पिता का नाम श्रीनिवास मंधाना हैं. उनके परिवार में माता पिता के अलावा एक भाई श्रवण हैं. जब स्मृति दो साल ही थी तबहीं उनके माता पिता माधवनगर, सांगली में बस गए थे. स्मृति ने अपनी प्रारंभिक पढाई माधवनगर से ही की. स्मृति (Smriti Mandhana) को क्रिकेट का शौक तब लगा जब वह अपने भाई को क्रिकेट खेलते देखती थी उनके भाई ने महाराष्ट्र के लिए अंडर-15 टीम में खेला था. जिसके बाद से ही स्मृति ने इनमे अपना करियर बनाने के बारे में सोच लिया था. जब स्मृति मात्र 11 साल की ही थी तब उन्हें अंडर 19 टीम के लिए सेलेक्ट कर लिया गया.

स्मृति (Smriti Mandhana) का परिवार पहले से ही इस क्षेत्र में जुदा हुआ था इस लिया स्मृति को भी ज्यादा दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ा. जब स्मृति (Smriti Mandhana) का सिलेक्शन हुआ था उसके बाद उनके क्रिकेट प्रोग्राम की पिता ने और डाइट की माता ने और प्रेक्टिस की भाई ने जिम्मेदारी ले ली थी.

स्मृति मंधाना डोमेस्टिक करियर (Smriti Mandhana Domestic career )

क्रिकेटर स्मृति (Smriti Mandhana) ने डोमेस्टिक मैच में नाम जब कमाया जब उन्होंने अक्टूबर 2013 में गुजरात के खिलाफ 150 गेंदों में नाबाद 224 रन बनाये थे. वनडे दोहरा शतक लगाने वाली स्मृति (Smriti Mandhana) पहली खिलाडी बनी.
जिसके बाद 2016 में वुमन चैलेंजर ट्रॉफी में मंधना ने इंडिया रेड की और से खेलते हुए 3 अर्धशतक लगाये. इसमें 62 रन की वह पारी भी शामिल हैं वो उन्होंने फाइनल में लगाकर टीम को जीत दिलाई थी.

स्मृति मंधाना अंतर्राष्ट्रीय करियर (Smriti Mandhana International career)

क्रिकेटर स्मृति (Smriti Mandhana) क्रिकेट के तीनो फॉर्मेट में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं. स्मृति ने अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर की शुरुआत 10 अप्रैल 2013 को बांग्लादेश के खिलाफ वाले वनडे से की थी. जिसके बाद उन्होंने टेस्ट में अपना करियर अगस्त 2014 को इंग्लैंड के खिलाफ वोर्म्स्ली पार्क में की थी. इस टेस्ट की दोनों परियों में स्मृति ने 22 और 51 का योगदान दिया था.

स्मृति (Smriti Mandhana) के बारे में लोग वर्ल्डकप 2017 से जानने लगे जब स्मृति में क्वालीफ़ायर मुकाबले में इंग्लैंड के खिलाफ 90 रनों की बहुमूल्य पारी खेली थी. इसके बाद उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने 106 रन की आतिशी पारी भी खेली. मंधाना ने वुमन टीम की उन अहम् खिलाडियों ने शामिल थी जिन्होंने टीम को फाइनल तक पहुँचाने में योगदान दिया था.

मंधाना का रिकॉर्ड (Mandhana’s record)

कुल 22 महिला खिलाड़ियों के पास 3000 से अधिक वनडे रन हैं, लेकिन मंधाना की तुलना में केवल दो ही तेजी से इस मुकाम को हासिल कर पाई हैं, जिसमें बेलिंडा क्लार्क (62 पारियां) और मेग लैनिंग (64 पारियां) शामिल हैं.

वनडे में उनके डेब्यू के बाद से, केवल सात महिला बल्लेबाजों ने प्रारूप में उनसे अधिक रन बनाए हैं. हालांकि, केवल तीन ने इस समय महिलाओं के वनडे मैचों में पचास या उससे अधिक का स्कोर बनाया है.

भारत और इंग्लैंड के बीच चल रही श्रृंखला भारत के लिए आईसीसी महिला चैम्पियनशिप चक्र में दूसरी श्रृंखला है. टूर्नामेंट 2025 में महिला क्रिकेट विश्व कप के लिए क्वोलीफायर तय करेगा.

पूरा आर्टिकल पढ़ने के लिए बहुत बहुत सुक्रिया हम आशा करते है कि आज के आर्टिकल Hijab से जरूर कुछ सीखने को मिला होगा, अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे शेयर करना ना भूले और ऐसे ही अपना प्यार और सपोर्ट बनाये रखे THEHALFWORLD वेबसाइट के साथ चलिए मिलते है नेक्स्ट आर्टिकल में तब तक के लिए अलविदा, धन्यवाद !