#Metoo मामले के आरोपी मुख़्यमंत्री चन्नी से महिला आयोग की अध्यक्ष ने की इस्तीफे की मांग…

0
614
Charanjit Singh Channi
Chiranjit Singh

राष्ट्रीय महिला आयोग (National Women Commission) की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने 21 सितम्बर सोमवार को एक बयान में कहा कि ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाना शर्मनाक है, जो ‘मी टू (Me Too) संबंधी आरोपों से घिरे हो, साथ ही रेखा शर्मा ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Chief Minister Charanjit Singh Channi) से मी टू (Me Too) संबंधी आरोपों’ को लेकर उनका इस्तीफा मांगा है.

इस मामले को लेकर रेखा शर्मा का कहना है कि ऐसी घटना कि हम फिर से कल्पना भी नहीं करना चाहते, जिस उत्पीड़न से महिला आईएएस अधिकारी को गुजरना पड़ा था. वो लोग महिलाओ कि क्या सुरक्षा करेंगे जो खुद मी टू (Me Too) जैसे मामले के आरोपी है. हम उस राज्य की महिला सुरक्षा का अंदाजा इस बात से लगा सकते है जहां की कमान संभाल रहे व्यक्ति खुद ही महिला सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करने के आरोपी हैं. हालांकि पंजाब महिला आयोग ने इस मामले का संज्ञान लिया, लेकिन सरकार ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की

मामला यह है कि साल 2018 में चरणजीत सिंह चन्नी (Chief Minister Charanjit Singh Channi) पर मी टू (Me Too) कैंपेन के अंतर्गत आरोप लगाए गए थे कि चन्नी ने एक महिला आईएएस अफसर को आपत्तिजनक संदेश भेजे थे लेकिन महिला आईएएस अधिकारी ने इस मामले की शिकायत दर्ज नहीं कराई और दोनों के बीच में समझौता करा दिया गया.

आपको बता दे कि चरणजीत सिंह चन्‍नी 2007 में पहली बार विधायक बने, चन्नी लगातार तीन बार कांग्रेस से विधायक रह चुके हैं। पंजाब की चमकौर साहिब विधानसभा सीट से वो विधायक चुनकर आते रहे हैं और 2015 से 2016 तक पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता थे कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की कैबिनेट में भी मंत्री रहे, कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया है

3 मई 2021 को पंजाब महिला आयोग की अध्‍यक्ष मनीषा गुलाटी ने राज्य सरकार से कहा कि वह आईएएस अफसर के लिए इंसाफ चाहती हैं हालांकि आईएएस अफसर का अब पंजाब के बाहर तबादला हो गया है. मनीषा गुलाटी ने मुख्य सचिव को पत्र लिख कर सरकार की कार्रवाई रिपोर्ट की मांग की है. उन्होंने कहा कि अगर राज्य सरकार एक सप्ताह में मामले पर कोई कार्यवाही नहीं करती है तो वह भूख हड़ताल करेंगी.