तालिबान (Taliban) अब महिलाओं के साथ क्या करने वाला है, मीडिया को बताया …

2
685
तालिबान (Taliban)
Taliban spokesperson Zabihullah Mujahid first press conference in Kabul on August 17, 2021

तालिबान (Taliban) ने अफगानिस्तान (Afghanistan) पर कब्ज़ा करने के बाद पहली बार आधिकारिक रूप से मीडिया के सामने आया और तालिबान प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने अपनी बात रखी.

जबीहुल्लाह ने महिलाओं से लेकर मानवाधिकार और कानून-व्यवस्था को लेकर तमाम बातों का जवाब दिया.
हालाँकि महिलाओं के बारे में तालिबानी प्रवक्ता ने कहा कि सरकार के गठन के बाद ही बताया जाएगा कि महिलाओं पर शरिया कानून कैसे लागू किया जाए.

महिलाएं और उनके अधिकारों के बारे में
तालिबान (Taliban) के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुज़ाहिद ने कहा कि,
“हम महिलाओं को अपनी व्यवस्था के भीतर काम करने और पढ़ने की अनुमति देने जा रहे हैं. महिलाएं हमारे समाज और हमारे ढांचे के भीतर अब बहुत सक्रिय होने वाली हैं.”

“हम शरिया व्यवस्था के तहत महिलाओं के हक़ तय करने वाले हैं. महिलाएं हमारे साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करने जा रही हैं.
आगे बोलते हुए कहा कि “हम अंतरराष्ट्रीय समाज को भरोसा दिलाना चाहते हैं कि अब उनके साथ कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा.”

इसके अलावा तालिबान प्रवक्ता ने कहा कि
“महिलाओं को शरिया कानून के तहत अधिकार और आजादी मिलेगी. हेल्थ सेक्टर और स्कूलों में वो काम कर सकेंगी.
एक पत्रकार ने सवाल किया कि मीडिया में भी महिलाएं काम कर सकेंगी?. तो वह बोले कि
“जब तालिबान सरकार बन जाएगी, तब साफ-साफ बताया जाएगा कि शरिया कानून के हिसाब से क्या-क्या छूट मिलेंगी.”

इसके अलावा तालिबानी प्रवक्ता ने अफगानिस्तान में सरकार बनाने के बारे में भी बताया
तालिबान के हिसाब से देश के सभी समुदायों के साथ मिलकर सरकार बनाने की बात कही. और इसके साथ में बताया कि किसी से भी कोई बदले कि भावना नहीं रखी जायेगी और सरकार में सभी समुदायों को शामिल किया जाएगा .

“हम जल्द ही सरकार बनाने की प्रक्रिया शुरू करने वाले है. हम पूरी कोशिश करेंगे कि सभी लोगों से संपर्क किया जाए. हम उनसे संपर्क कर रहे हैं. हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि सभी अफगान इसमें शामिल हों. किसी को भी छोड़ा नहीं जाएगा. जो भी देश की सेवा करना चाहेगा, उसे नजरअंदाज़ नहीं किया जाएगा. भविष्य की सरकार समावेशी होगी. जल्द ही सरकार की घोषणा होगी और समस्याएं खत्म होंगी.”

हालाँकि अंतराष्ट्रीय समुदाय वहां कि मानवाधिकार और खासकर महिलाओं के अधिकारों के बारे में चिंतित है क्योंकि महिलाओं पर पहले भी तालिबानी कानूनी प्रक्रिया अत्याचार के रूप में बदनाम है . इसी बात को लेकर महिलाएं भी चिंतित है .

2 COMMENTS

Comments are closed.