बचपन में पोछती थीं अपनी मां के आंसू, बनी देश की पहली महिला फाइटर पायलट… Avani Chaturvedi

अवनी चतुर्वेदी (Avani Chaturvedi) शहडोल की रहने वाली हैं और उनकी स्कूलिंग यहीं हुई है। अवनि ने राजस्थान की वनस्थली यूनिवर्सिटी से बीटेक किया था। उनके पिता दिनकर प्रसाद चतुर्वेदी इंजीनियर हैं और मां सविता हाउसवाइफ हैं।

0
48
Avani Chaturvedi
बचपन में पोछती थीं अपनी मां के आंसू, बनी देश की पहली महिला फाइटर पायलट... Avani Chaturvedi

अवनि चतुर्वेदी का जीवन परिचय (Avani Chaturvedi Biography )

Avani Chaturvedi : मध्य प्रदेश की रहने वाली अवनि चतुर्वेदी को. अवनि ने 19 फरवरी को भारतीय वायुसेना में लड़ाकू विमान पायलट के रूप में मिग-21 फाइटर जेट से खुले आसमान में अकेले ही उडान भरकर पहली स्वतंत्र फाइटर पायलट होने का गौरव प्राप्त किया. हालांकि फाइटर पायलट बनने की दिशा में यह उनका पहला चरण है, इसके बाद उन्हें अभी 2 वर्ष और प्रशिक्षण लेना होगा, तभी वे यह उपलब्धि पूर्ण रूप से हासिल कर पाएंगी. इ

पारिवारिक जानकारी (Family Information)

अवनि (Avani Chaturvedi) का जन्म रीवा के रहवासी श्री दिनकर चतुर्वेदी जी के यहाँ 27/10/1993 के दिन हुआ. अवनि के पिता मध्य प्रदेश के जल संसाधन विभाग में इंजीनियर है जबकि उनकी माता एक गृहणी है. अवनि (Avani Chaturvedi) के बड़े भाई भी भारतीय सेना में कार्यरत है. अपने बड़े भाई से ही प्रेरित होकर अवनि (Avani Chaturvedi) ने भारतीय सेना में आने का निर्णय किया और इसी के साथ उनके भाई भी चाहते थे, उनकी बहन सेना में कार्य करे. अवनि (Avani Chaturvedi) को अपने कॉलेज के फ्लाइंग क्लब में कुछ घंटो की उडान का अनुभव पहले से ही था, जिसके चलते उन्होंने भारतीय वायुसेना को अपने कार्यपथ के रूप में चुना, और आज इतिहास रचकर अपने परिवार को गौरवान्वित किया. इन सब के अलावा इन्हें शतरंज, टेबल टेनिस, स्केचिंग और पेंटिंग का भी शौक है.

माँ के बहते आंसू पोंछे (wipe mother’s tears)

अवनी चतुर्वेदी (Avani Chaturvedi) शहडोल की रहने वाली हैं और उनकी स्कूलिंग यहीं हुई है। अवनि ने राजस्थान की वनस्थली यूनिवर्सिटी से बीटेक किया था। उनके पिता दिनकर प्रसाद चतुर्वेदी इंजीनियर हैं और मां सविता हाउसवाइफ हैं। अवनि का कहना है, “जब मैं तीसरी क्लास में थी तब टीवी पर कल्पना चावला की स्पेसशिप क्रैश की खबर देखी थी। उस खबर ने मेरी मां सविता चतुर्वेदी को बहुत दुखी कर दिया था। वो टीवी स्क्रीन के सामने रो रही थीं। मैं उनके पास गई और बोली मां आंसू मत बहाओ। मैं अगली कल्पना चावला बनूंगी।“

शिक्षा (Education)

अवनि (Avani Chaturvedi) की प्रारंभिक शिक्षा मध्य प्रदेश के शहडोल जिले के एक छोटे हिस्से देओलेंड से हुई. इसके बाद उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई राजेस्थान से की और बनस्थली यूनिवर्सिटी से स्नातक की उपाधि साल 2014 में ली. इसके बाद उन्होंने भारतीय वायु सेना की परीक्षा उत्तीर्ण की और हैदराबाद वायुसेना अकादमी से अपना प्रशिक्षण पुरा किया.

उपलब्धिया और भविष्य ( Achievement and Future)

हैदराबाद के वायुसेना प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षण प्राप्त कर साल 2016 में ही अवनि एक लड़ाकू विमान पायलट की उपाधि ले चुकी थी.
अवनि को अपनी पहली उपलब्धि मात्र 24 वर्ष की उम्र में 19 फरवरी को वायु सेना के लड़ाकू विमान को अकेले ही उडाकर मिली है. उन्होंने इस बार वायुसेना के विमान मिग-21 से उडान भरी थी. वे ऐसा कारनामा कर दिखाने वाली पहली महिला पायलट है.

भारतीय वायुसेना में अन्य महिलाएं (Women In IAF )

अवनि चतुर्वेदी (Avani Chaturvedi) के अतिरिक्त भावना कांत और मोहना सिंह दो और अन्य महिलाएं है, जिन्हें वायु सेना में पायलट होने का गौरव प्राप्त है. वैसे तो वायुसेना में अलग अलग पदों पर लगभग 1 हजार 5 सौ महिलाएं काम कर रही है. परंतु इन तीनो ने एक अलग ही दिशा में कदम रख एक अलग इतिहास रचा है. वैसे तो 2 दशक पूर्व साल 1991 में ही महिलओं ने हेलिकॉप्टर और ट्रांसपोर्ट के लिए उपयोग किये जाने वाले विमान उड़ाना शुरू कर दिया था, परंतु लड़ाकू विमान उड़ने का मौका उन्हें अब दिया गया है.

पूरा आर्टिकल पढ़ने के लिए बहुत बहुत सुक्रिया हम आशा करते है कि आज के आर्टिकल Hijab Law से जरूर कुछ सीखने को मिला होगा, अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे शेयर करना ना भूले और ऐसे ही अपना प्यार और सपोर्ट बनाये रखे THEHALFWORLD वेबसाइट के साथ चलिए मिलते है नेक्स्ट आर्टिकल में तब तक के लिए अलविदा, धन्यवाद !