पीएम मोदी के साथ 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट में शामिल दादी बिलकिस के बारे में थोड़ा जान लीजिये…

0
383
time magazine
Dadi Bikis & PM Modi

शाहीन बाग के शांतिपूर्ण आंदोलन का चेहरा रही दादी बिलकिस को दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित मैगजीन टाइम (Time magazine) ने साल 2020 के शीर्ष 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट में शामिल किया है। दादी सीएए के खिलाफ पूरे भारत में हुए शांतिपूर्ण प्रदर्शनों का मुख्य चेहरा रहीं। इसके अलावा इस सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अभिनेता आयुष्मान खुराना और गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई शामिल हैं। 

जब दादी को टाइम मैगजीन (Time magazine) में दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में शामिल किया गया तो उन्होंने कहा कि, जिस कानून के विरोध में वह धरने पर बैठी थीं, आज उसी धरने को देखकर दुनिया ने शाहीन बाग का सजदा किया है। उनका कहना है कि वह मोदी सरकार से अब भी कानून को वापस लेने की अपील करती हैं। 


दादी बिलकिस ने कहा है कि हम शांतिप्रिय लोग हैं, इसलिए कोरोना संकट आने के बाद ही खुद प्रदर्शन को समाप्त करने का फैसला लिया। इस सम्मान को पाने के बाद बिलकिस दादी ने टाइम मैगजीन का शुक्रिया अदा किया है। उनका कहना है कि वह मरते दम तक सीएए कानून का विरोध करती रहेंगी।  
इस साल टाइम मैगजीन ने शाहीन बाग आंदोलन के दौरान ‘दादी’ के नाम से मशहूर हुईं बिलकिस को भी दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में शामिल किया है।


माना जाता है कि 82 वर्षीय दादी बिलकिस उस वक्त सुर्खियों में आईं, जब नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शाहीन बाग आंदोलन में वह धरने पर बैठी थीं। बिलकिस ने नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में नारा दिया था कि, जब तक रगों में खून बह रहा है, तब तक यहीं बैठी रहूंगी। उनके साथ दो दादी और भी थीं, जो हर वक्त प्रदर्शन में साथ ही रहती थीं।

कौन है दादी बिलकिस
एनआरसी-सीएए विरोध का चेहरा बनकर उभरीं बिलकिस यूपी के बुलंदशहर की रहने वाली हैं। उनके पति की मौत हो चुकी है। बिलकीस फिलहाल शाहीनबाग में अपने बहू-बेटों और पोते-पोतियों के साथ रहती हैं।