पकिस्तान में हिन्दू लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन और विवाह, मौलवी गिरफ्तार

0
1076
UN Report
दुनियाभर में लापता हुई महिलाओं में 4.58 करोड़ महिलाएं भारतीय...UN Report
  • पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मामले में जांच के आदेश दिये हैं.

जब भी समाज के किसी हिस्से में लड़ाई चलती है तो उसका सबसे ज्यादा महिलाओं पर प्रभाव देखने को मिलता है. यही सब देखने को मिला पकिस्तान के सिंध प्रान्त में जहाँ कथित रूप से दो नाबालिग हिन्दू बहनों (Pakistani Hindu Girls) का अपहरण कर जबरन उन्हें इस्लाम स्वीकार करवाने और फिर उनकी शादी कराने का मामला सामने आया है.

हालाँकि इसे लेकर बवाल हुआ तथा अल्पसंख्यक समुदाय ने विरोध प्रदर्शन किया. इसके तुरंत बाद, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) ने पाकिस्तान में भारत के दूत से जानकारी मांगी है.

सुषमा स्वराज ने इस घटना के संबंध में एक ट्वीट भी किया जिसमे उन्होंने पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त से इस मामले पर रिपोर्ट भेजने को कहा है. मीडिया के अनुसार यह घटना सिंध प्रांत के घोटकी जिले के धारकी कस्बे में हुई.
रिपोर्ट में है कि इलाके में हिंदू समुदाय ने विरोध प्रदर्शन किए और कथित अपराध को अंजाम देने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की.


I have asked Indian High Commissioner in Pakistan to send a report on this. @IndiainPakistan
Two Hindu girls abducted on Holi eve in Pakistan’s Sindh https://t.co/r4bTBSoy9d via @TOIWorld
— Chowkidar Sushma Swaraj (@SushmaSwaraj) March 24, 2019

गौरतलब है की, होली की पूर्वसंध्या पर 13 वर्षीय रवीना और 15 वर्षीय रीना का ‘प्रभावशाली” लोगों के एक समूह ने घोटी जिले स्थित उनके घर से अपहरण कर लिया था. अपहरण के बाद ही एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें मौलवी दोनों लड़कियों का निकाह कराते दिख रहे हैं. इसके बाद एक और वीडियो सामने आया जिसमें लड़कियां इस्लाम अपनाने का दावा करते हुए कह रही है कि उनके साथ किसी ने जबरदस्ती नहीं की है.

पाकिस्तान में हिन्दू समुदाय जो की वहां अल्प अल्पसंख्यक है उन्होंने घटना के खिलाफ बड़े स्तर पर प्रदर्शन कर मामले में दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है.

अब खबर है की निकाह करवाने वाले मौलवी को रविवार गिरफ्तार कर लिया गया है.
पाकिस्तानी मीडिया की माने तो इन नाबालिग लड़कियों (Pakistani Hindu Girls) ने पंजाब प्रांत की एक अदालत से सुरक्षा की गुहार लगायी है.

खबरों के अनुसार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मामले में जांच के आदेश दिये हैं.
इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को प्रदर्शन कर देश के अल्पसंख्यकों से किए गए वादे की याद दिलाया था .


पाकिस्तान हिंदू सेवा वेलफेयर ट्रस्ट के अध्यक्ष संजय धनजा ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मामले का संज्ञान लेने और पाकिस्तान में सभी अल्पसंख्यक वास्तव में सुरक्षित हैं, यह साबित करने की मांग की.
पाकिस्तान में इस तरह की घटनाये आम हो गई है .समय समय पर ऐसी घटनाये सामने आयी है.
कुछ वक्त पहले पाकिस्तान में एक मंत्री ने हिन्दुओं के खिलाफ बयां देने पर उनकी काफी आलोचना हुई थी तथा बाद में सरकार ने उन्हें हटा दिया था.