National Housewife Day: गृहिणी होम मेकर जानिए – घर की खुशियां उनकी खुशी से…

National Housewife Day: कहते हैं हर सफलता के पीछे किसी नारी का हाथ होता है ।धन्य है नारी जो सबसे पहले सर्वप्रथम हमारे जीवन में मां के रूप में गुरु बन कर, फिर बहन के रिश्ते में सच्ची दोस्त के रूप में ,फिर धर्म पत्नी स्वरूप जीवन साथी और सलाहकार के रूप में आती है....

0
16
National Housewife Day
National Housewife Day: गृहिणी होम मेकर जानिए - घर की खुशियां उनकी खुशी से...

National Housewife Day: जिस प्रकार शरीर की नाडीयों के सही से काम करने से ही हमारा शरीर सही काम करता है उस तरह हमारे जीवन में नारी और उसकी गतिविधियों से ही हमारा जीवन खुश रह पाता है।

National Housewife Day: कहते हैं हर सफलता के पीछे किसी नारी का हाथ होता है ।धन्य है नारी जो सबसे पहले सर्वप्रथम हमारे जीवन में मां के रूप में गुरु बन कर, फिर बहन के रिश्ते में सच्ची दोस्त के रूप में ,फिर धर्म पत्नी स्वरूप जीवन साथी और सलाहकार के रूप में आती है ,फिर बेटी के रूप में पिता के जीवन में मुस्कुराहट ले कर आती है, जिससे पिता उसकी मुस्कुराहट से ही अपने सारे गमों को भुला देता है,जो पिता और अपने पति दोनो के घर को या कुल को पार लगाती हैं , जिनका जीवन सिर्फ दूसरे को खुशियां दिलाने के ही समर्पित रहता है।

नारी शक्ति

National Housewife Day: ऐसी नारी शक्ति को नमन है जो अगर कमा रही है घर से या बाहर जा कर भी तो भी अपनी घर की जिमेवारी भी निभा रही हैं जबकि पुरुष यदि कमा रहे हैं तो वो कुछ और जिमेवारी को निभाना पसंद नहीं करते।

धन्य नारी शक्ति

तुलसीदास और कालिदास जैसे महा कवियों को उन नारियों की वाणी ने जन्म दिया और जिनसे तुलसीदास और कालिदास का नाम प्रखर हुआ ।

इसीलिए हमारे समाज में नारी को बहुत सम्मान दिया गया है और नारी को हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भी बताया गया है।

नारी के बिना सब अपूर्ण.

National Housewife Day: हमारे धर्म शास्त्रों में गृहस्थ जीवन में तीसरा सुख नारी को बताया गया हैं। पहला सुख निरोगी काया और दूसरा सुख घर में धन का होना और तीसरा सुख हमारे घर की नारियां जिनसे हमारे जीवन में हमारा घर बनता है।

घर की खुशियां इनकी खुशी से

National Housewife Day: हमारे घर की खुशियां पूरी तरह से हमारे घर की गृहणी पर निर्भर करती है जो हमारे घर की नींव होती है ,जो पूरे घर को संभाल कर सब की खुशी का ख्याल रखती हैं आज मेरा मन हुआ कि हमारे घर की माताएं ,बहने ,बेटियां और बहू पर कुछ लिखु ,जिनका जीवन देखा जाए तो सदैव दूसरों के लिए ही समर्पित रहता है ।इनके पास कुछ खाली समय भी रहता हैजिसके लिए मुझे कुछ बताने का मन हुआ कि इस समय को वह किस तरह सदुपयोग कर कुछ अपने लिए भी जीवन जी सकती हैं ,और खुशियों , स्वास्थ्य को अपना दोस्त बना कर अपने जीवन में खुशियों के रंग भर सकती हैं।

ये घर में ही रहती है इसीलिए उन्हें ग्रहणी भी कहा जाता है और कई बार ऐसा देखा जाता है कुछ घरों में महिलाएं अपने दैनिक कार्य को करके ही अपना समय निकाल देती है और कुछ के घरों में नौकर चाकर काम करने वाले लोग रहते हैं इसकी वजह से उन्हें कुछ नहीं करना रहता।उनका जीवन टीवी देखना , सोना बहुत देर तक मोबाइल में लगे रहना ,इत्यादि करके बीतता है ,और धीरे-धीरे वे दबाव के इस जीवन से ग्रसित हो जाती है ।इसीलिए मैंने उन घर की गृहणियों के लिए कुछ लिखा , जिससे वे प्रसन्न रह सके।सबसे पहले तो अब अपने आप को होम मेकर का नाम दें।

घर पर ही प्राणायाम करें

National Housewife Day: हमारे घर की स्त्रियां सबसे पहले यह समझे कि उनका भी स्वास्थ्य अनमोल है स्वास्थ्य है तभी सब कुछ है इसलिए वे अपने स्वास्थ्य के लिए बहुत ही सक्रिय रहे और निरंतर अपने लिए समय दे और अपनी खुशी और स्वास्थ्य के लिए प्राणायाम ,व्यायाम ,मेडिटेशन, योग ,को नित्य निरंतर अपने जीवन में स्थान दें ।

वॉकर पर घर पर चलें

National Housewife Day: इसके लिए प्रातः कालीन भ्रमण पर भी जाकर आप अपने जीवन के अनमोल ,अपने स्वास्थ्य पर काम करके प्रसन्न रह सकती हैं।इससे उनका समय का सदुपयोग भी हो सकता है तथा वे स्वास्थ्य के प्रति भी सर्तकत्ता बरत कर प्रसन्न रह सकती हैं।

साइकिलिंग घर पर करें

National Housewife Day: अगर आपको घर से बाहर निकलने का समय नहीं मिल पाता है तो भी अपने स्वास्थ्य को संभालने के लिए घर में छोटी जिम की व्यवस्था करें इसके तहत आप साइकिलिंग करें, वाकर मशीन घर पर ही व्यवस्था कर उस के माध्यम से चलें।

अगर आपका वजन काफी बढ़ गया है और आप चल भी नहीं पा रही हैं तो आजकल मार्केट में वाइब्रेशन मसाज मशीन भी उपलब्ध है जिससे घर पर ही आप अपने स्वास्थ्य पर थोड़ा ध्यान दे सकते हैं।

कुछ जो आपको सूट करे जरूर लें

National Housewife Day: कई बार ऐसा भी देखा जाता है हमारी गृहणियां सुबह से सबके तैयार होने तक कुछ खाती पीती नहीं किंतु उन्हें दिन की शुरुआत के साथ कुछ फल गर्म पानी, नींबू पानी ,एलोवेरा या आंवला जूस जो उनके शरीर को सूट करे या अच्छा लगे जरूर लेना चाहिए जो उनके शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करता है वे स्वस्थ रहती हैं प्रसन्नता का अनुभव करती हैं।

सिखाएं

हमारे घर की स्त्रियां अपनी प्रतिभा को पहचाने, उसे जानने की कोशिश करें कि वह कौन सा गुण है जो उन्हें बचपन से पसंद है और उसी गुण को निखारने के लिए उस पर वे अपना समय दे सकती हैं ।इसके तहत वे कुछ दूसरे को सिखा सकती हैं दूसरे से कुछ सीख सकती है और अपने जीवन में कुछ लक्ष्य बना कर उस पर काम कर सकती है। उनके पास जो भी है ,मुफ्त सेवा कर सकती हैं।

घर नारी से

अच्छे वस्त्रों का धारण करें ।खूबसूरत और आकर्षक दिखने वाले वस्त्रों को पहने और जो आपके आत्मविश्वास को बढ़ाकर रखेगा।
आकर्षक दिखने के लिए हल्के मेकअप और खुशबू का प्रयोग कर अपने आप को तरोताजा बनाकर रखें।

देने की आदत रिश्ते को मजबूत करती है

देने की आदत नित्य निरंतर सहयोगियों, जीवन में रिश्तो और मित्रों को संजो कर रखती है,
जो हमें तरोताजा और खुश रखते है। इस दौरान हमें अपने रिश्तों को मजबूत करने का समय भी मिलता है। वह अपने घर अपने रिश्तेदारों को बुलाकर या किसी रिश्तेदार के घर जाकर भी जीवन का आनंद ले सकती है । प्रसन्नता पूर्वक सामने वाले व्यक्ति को जो वह सोचा ना हो उससे कुछ ज्यादा ही दें आपकी यह आदत आपको भी खुशियां देंगे और आपके सम्मुख व्यक्ति भी बहुत पसंद होगा।

मन में खुशियों के विचार सकारात्मक विचार बनाए रखें

खाली समय वे अपनी मानसिक व्यायाम पर भी ध्यान दे सकती हैं । कुछ संगीत को सुनकर, कुछ सिनेमा देख कर ,आज के आधुनिक युग में मोबाइल पर अपने गेम खेलकर भी समय गुजार सकती हैं ,जिससे उनकी मानसिक सोच भी सकारात्मक बनी रहती है।

खाली बैठी स्त्रियां अपने अपने नित्य के खर्चे, तथा बजट और निवेश पर भी सोच सकती है और काम कर सकती हैं।

लिखें खर्च को तब बचत की जगह जान सकेंगी
खर्च और बचत का हिसाब रखें

खाली समय में हमारे घर में बाग बगीचे पौधे आदि लगाकर नित्य निरंतर उनकी देख भाल या उनकी देखरेख कर भी प्रसन्नता प्राप्त कर सकती है।

घर को सजाएं ,बच्चों को भी इसमें साथ रखें

घर की सजावट पर भी ध्यान दे सकती है जिन से भी उन्हें प्रसन्नता की प्राप्ति हो सकती है। घर की सजावट के दौरान सबसे पहले उन चीजों को खोजें जो खराब पड़ी है उन्हें ठीक कराएं और जो काम की नहीं है उन्हें फौरन हटाए जिससे आपका मन नई दिशा में घर को सजाने पर चल सकेगा और घर में सकारात्मक ऊर्जा भी बढ़ेगी।.

महिलाओं से जुड़े जो ऊर्जा बढ़ाती हैं।

सकारात्मक सोच और क्षमा करने की आदत बनाएं और सदैव अपने विश्वास के निर्माण के लिए कुछ भजन कीर्तन अध्यात्म शक्ति से जुड़े लोगों से दोस्ती करें।

कुछ संगीत सुन कर भी हम प्रसनता का अनुभव कर सकते हैं। इसमें आप नए पुराने सभी तरह के गीतों और यदि आपको शौक है तो आप भजन कीर्तन का भी आनंद ले सकते हैं आज के इस वर्तमान युग में कई तरह के ब्लूटूथ स्पीकर मार्केट में उपलब्ध हैं जिस पर आप जैसी आवाज पसंद करते हैं कम या बहुत तेज उस आवाज में सुनकर अपने मन मस्तिष्क को तरोताजा रख सकते हैं।

इस आधुनिक युग में घर से कुछ खरीद बिक्री का व्यापार ,या बुटीक का निर्माण कर पैसे भी कमा सकते हैं और खुश भी रह सकती हैं। कपड़ों की सिलाई आधुनिक युग में काफी डिमांड रहने वाली है लोग अपने कपड़े कस्टमाइज कराकर पहनना पसंद करते हैं । वे दुकानों की डिजाइन कोमन होने की वजह से कुछ अलग हट कर डिजाइन या विचारों के वस्त्र पहन कर कुछ अलग दिखना चाहते हैं जिससे वे आकर्षक दिखें ।वे इसके लिए कोई भी मूल्य देने को भी तैयार रहते हैं ।ये आपको व्यस्त भी रखेगा ,स्वस्थ भी रखेगा और आप खुश भी रहने लगेंगी।

घर के 1 हिस्से से शुरू करें

आप घर से ही ,घर के उपयोग की सभी सामग्री को बेचने का काम कर भी पैसा कमा सकती है और अपने कौशल को भी निर्माण कर सकती हैं और खुश रह सकती हैं।

हर समय साथ रहें

कही भी परिवार की साथ घूमने जाने की योजना बने तो टाल मटौल ना कर परिवार के साथ आनंद लिया जा सकता है।इससे आपका मन मस्तिष्क नई ऊर्जा , आपका शरीर तंदुरुस्त होगा।

साथ में डिनर पर जाएं

किट्टी पार्टी में शामिल होकर उनके माध्यम से नई महिलाओं से दोस्ती बढ़ायें। उनसे नई बातों को सीखें उनसे उनके जीवन के बारे में जानें उसमें भी खुशियां बढ़ाने के नए नए सूत्र खोजें,खूब हंसे इनसे बातें करें और प्रसन्न रहें।

किट्टी पार्टी में दोस्तों से बातें करें

कभी कभी ब्यूटी पार्लर जा कर अपने सुंदर और आकर्षक दिखने के लिए समय दें।ये आपको आकर्षक दिखने में सहयोग करेगा तथा आपके आत्मविश्वास को भरपूर बढ़ाएगा जो आपको खुशियों से भरेगा।

Beauty parlor जाएं

कुछ रचनात्मक कार्य को आप सीख सकते हैं जैसे पेंटिंग, पैकेजिंग ,गिफ्ट,आदि।

जीवन के अनुभव को आप एक डायरी में लिख सकते हैं ,अपने अनुभव को, अपनी योजनाओं को ,उसमें लिख कर आप अपने विचारों को अपने आप के साथ तालमेल कर सकते हैं ।अपने अनुभव ,भविष्य की योजना,या महत्वकी सब बातें लिखित रख कर आप और खुशी महसूस कर सकती हैं।

घर पर ही कभी कबार भजन का कार्यक्रम रखें जिसमें घर के सभी सदस्य एक साथ बैठकर हरि कीर्तन का आयोजन कर भी जीवन का आनंद उठा सकते हैं।

कभी अपने परिवार के साथ आप मंदिर , कथा ,भागवत, में जाकर भी प्रसन्नता का अनुभव कर सकते हैं।

पुस्तक पढ़ने की आदत बहुत ही अच्छी होती है अगर इसमें आपकी रूचि हो तो यह भी हमें जीवन में बहुत ही आनंद देती है।

घर पर ही कभी खाने की व्यवस्था को अपने घर के छत पर करें जहां परिवार के सभी सदस्य इकट्ठे होकर भोजन करें। इस तरह का नई व्यवस्था आपको भी आनंदित करेंगी और आपके परिवार के सभी सदस्य भी आनंद महसूस करेंगे।

खाली समय में हम अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर भी कुछ समय दे सकते हैं जिसमें हम इंटरनेट के माध्यम से फेसबुक ,व्हाट्सएप ,इंस्टाग्राम के माध्यम से कई लोगों से जुड़ कर कुछ समय व्यतीत कर सकते हैं इस दौरान हमें यह ध्यान रखना चाहिए यह समय बहुत अल्प हो क्यों की अधिक देर तक इसके साथ जुड़े रहने से हमारे मस्तिष्क की गति धीमी हो जाती है इसके परिणाम स्वरूप हम तनाव महसूस करने लगते है।

Long drive पर जाएं

कभी कभी-कभी लॉन्ग ड्राइव पर जाकर भी हम अपने जीवन का आनंद ले सकते हैं इसमें हम सपरिवार भी जा सकते हैं ।या कभी दिन में घर के बच्चों और अपनी सहेलियां और अपनी परिवार की महिला सदस्यों के साथ भी यह नया अनुभव लिया जा सकता है।

पड़ोसी महिलाओं से अच्छे रिश्ते बनाएं


घर के पड़ोसियों के साथ भी मित्रता का संबंध निर्माण करें और उनके साथ बातचीत कर उनसे कुछ सीख भी सकते हैं और खुश रह सकते हैं।

बेकरी को कस्टमाइज करवाएं

इन दिनों कस्टमाइज बेकरी की बहुत डिमांड बढ़ रही है इसके तहत अब केक बना सकती हैं उसे आप कस्टमाइज करने की सुविधा देकर भी कस्टमर को आकर्षित कर सकती हैं। इसे आप अपने परिवार, फ्रेंड्स ,फिर लोकल दुकानों, से शुरू कर विभिन्न ग्रुपों के पर इंटरनेट पर बने बहुत से ऐप जैसे फेसबुक इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप ग्रुप पर ग्रुप में पहुंचकर अपने स्टेटस बेच सकती हैं।

आगे बेकरी व्यापार की बहुत डिमांड बढ़ेगी

बच्चों को पढ़ाएं


आप घर बैठे ही बच्चों को पढ़ाने का काम भी कर सकती है और खुश रह सकती है। आजकल ऑनलाइन के माध्यम से भी बच्चे पढ़ रहे हैं और धीरे-धीरे अगर आपने पढ़ाने की इस कला का विकास करें तो आप ऑनलाइन भी बच्चों को पढ़ा सकते हैं। पढ़ाने के अलावा भी आप ऑनलाइन किसी भी तरह की ट्रेनिंग में जल्दी मास्टरी है तो आप इसे अपना वर्किंग स्टाइल बनाकर बहुत ही खुश रह सकते हैं।

आज के इस दौर में वर्किंग कपल्स को जहां एकाकी परिवार की प्रचुरता बढ़ रही है ।उन्हें जरूरत होती है जो दिन भर उनके बच्चों को अच्छी व्यवस्था के साथ संभाला सके ऐसे में आप बच्चों की देखभाल की व्यवस्था कर उनके साथ मनोरंजन भी कर सकते हैं उसे अपना काम बनाकर आप खुश भी रह सकते हैं ।

घर से शुरू करें

अगर पेड़ पौधों की देखभाल की शौक है ,आप घर से नर्सरी शुरू करके खुश रह सकते हैं।आजकल भेजने के लिए गिफ्ट के स्वरूप फूलों की काफी डिमांड बढ़ रही है ,लोग मनपसंद तरीके से इसे कस्टमाइज करना पसंद करते हैं ,इसके तहत आप नये नये तरह की फूलों के बुके का आधुनिक डिजाइनिंग पर काम कर भी आप पैसा कमा सकती हैं और प्रसन्न रह सकते हैं।

आजकल घर बैठे होम मेकिंग गिफ्ट आइटम का भी डिमांड काफी बढ़ रहा है लोग इसे पसंद करते हैं। इसके अलावा बड़े-बड़े कॉरपोरेट और बड़े-बड़े ऑफिस त्योहार के समय अपने कर्मचारियों ,अपने सहयोगी को , कस्टमर को गिफ्ट देने के लिए इन्हें खोजा जाता है। और यह घर से ही शुरू किया जा सकता है, आजकल ऑनलाइन के माध्यम से इसे बेचा जा सकता है ,और यह करके भी हमारे घर की स्त्रियां बहुत प्रसन्न रह सकती हैं।

आज के युग में आप अगर मेहंदी लगाने में माहिर हैं तो इसे भी व्यवसाय के रूप में परिणित करके खुश रहा जा सकता है आजकल स्त्रियां आपके घर आकर भी मेहंदी लगवाती हैं ,और आप भी उनके घर जाकर मेहंदी लगाने का काम कर उन्हें दोस्त भी बना सकती हैं और खुश रह सकते हैं।

अपनी सोच को सदैव सकारात्मक रखें और प्रसन्न रहने का प्रयास करें परिवार के अन्य सदस्यों की परवाह करें किंतु इसे अपने मानसिक धरातल पर स्थाई रूप ना होने दें। क्योंकि आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को अच्छा रखने रखने के लिए यह बहुत जरूरी है कि आप अच्छा चिंतन करें, सकारात्मक चिंतन करें ,और जैसा आप होते हुए देखना चाहते हैं उसका चिंतन करें ,क्योंकि जैसा हम सोचते हैं वैसे ही हम बन जाते हैं। हमारा जीवन कहीं ना कहीं हमारे सोच का ही परिणाम होता है।खूब प्रसन्न रहें मुस्कुराने की आदत डालें और जहां जहां खुशी मिलती हो, जिस अवसर पर खुशी दिखाई दे ,जिस काम को कर आपको खुशी मिले, उसके साथ जुड़े उसके साथ मित्रवत भावना कर खूब प्रसन्न रहने की कोशिश करें जो आपके स्वास्थ्य को आपके मन को नई ऊर्जा देगा। इन्हें टालमटोल करने की आदत अपने जीवन में ना आने दे।

हैप्पी गृहणी हैपी होम.

कुल मिलाकर खुद की खुशी के लिए जीना सीखना शुरू करें ,खुद के लिए जिंदा रहना सीखें ,जीवन को खेल की तरह जियें, शानदार जिंदगी जीने के सूत्र सीखें ,और उस पर अमल करें। अपने आप को महत्व दें, लोगों को चौकाएं, युवाओं और बच्चों के साथ समय बिताएं ,दोस्तों को घर बुलाएं, जीवन जीने का नजरिया बदलें, जहां तक संभव हो अपना काम स्वयं ही करने की आदत रखें ,दूसरों से अपेक्षा ना के बराबर रखें।.

गृहणी भी हमारी साथी भी

आज हमारा देश 21वीं शताब्दी की ओर बढ़ रहा है ,जहां हमें हमारे घर की गृहणी को भी अपने संग लेकर चलना है, इसके लिए उन्हें मजबूत कंधे से कंधा मिलाकर चलने को तैयार करना है , उन्हें सम्मान देना है , उन्हें बताना है उनकी शक्ति और साथ हमारे जीवन में भोजन में नमक की तरह है तभी हमारा देश आत्मनिर्भर भी बन सकेगा।

गृहणी हर सदस्य को जोड़ कर रहती है। मातृ शक्ति है जन्म देती है ,सृजन करती ,हमको शक्ति देती ,आशा ,हर्ष ,और उल्लास का विस्तार करती।
नारी परिवार का आधार है, हमारे घर का हमारे लक्ष्य और खुशियों भरे जीवन का प्राण है, ग्रहणी गृहस्थी का मूल है, गृहस्थ की आत्मा भी है। हमारे घर की गृहणी ही हमारा घर परिवार है यह हमारे घर की सभी जिम्मेदारियों को निभाते हुए ,सभी रिश्ते नातों को मान सम्मान देते हुए अपना जीवन व्यतीत करती है इनकी परवाह इनका ध्यान हमें रखना है, इन्हें जागरूक करना है और इनको खुशियां देनी है ।यह गृहणी ही परिवार की स्वामिनी है,हमारे परिवार की श्री और समृद्धि की धूरी है, वंश वृद्धि की नींव है, हमारे जीवन में हमारी सलाहकार है, इनका स्वस्थ रहना, इनका प्रसन्न रहना, हमारा पूरा दायित्व है, जिसके लिए हमें काम करना है ,ताकि हम भी खुश रहें यह भी खुश रहें और हमारा परिवार भी खुशियों से भरा रहे । धन्यवाद जय श्री कृष्णा

पूरा आर्टिकल पढ़ने के लिए बहुत बहुत सुक्रिया हम आशा करते है कि आज के आर्टिकल National Housewife Day से जरूर कुछ सीखने को मिला होगा, अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे शेयर करना ना भूले और ऐसे ही अपना प्यार और सपोर्ट बनाये रखे THEHALFWORLD वेबसाइट के साथ चलिए मिलते है नेक्स्ट आर्टिकल में तब तक के लिए अलविदा, धन्यवाद !