दुष्कर्म में नाकाम लोगों ने युवती को लगाई आग, पटना के अपोलो बर्न हॉस्पिटल में इलाज जारी

0
870

जब कुछ लोग दुष्कर्म (Rape) में नाकाम हुए तो उन्होंने एक युवती को जिन्दा जला (Burn) दिया अब युवती का पटना के अपोलो बर्न हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है। बुधवार की शाम उसने वहां मजिस्ट्रेट अनिता जायसवाल व महिला थानेदार आभा रानी को फर्द बयान दर्ज कराया। युवती का कहना है कि राजा मेरे इंटर में पढ़ने के समय से ही पीछे पड़ा था। मैं उससे बात करना नहीं चाहती थी। वह बार-बार मुझ पर दबाव बनाता था। इस बीच मेरी शादी दूसरी जगह तय हो गई। लेकिन, दरिंदे ने सब कुछ तबाह कर दिया। 7 दिसंबर की शाम 7 बजे कपड़ा लाने छत पर गई। वह छत पर पहले से छिपा था। उसने मेरे ऊपर केरोसिन तेल छिड़क कर आग (Burn) लगा दी। …और अब भी मैं जिंदा बच गई तो वह मार डालेगा…।

महिला थानेदार के पूछने पर कि उस शाम क्या हुआ? जख्मी युवती ने कहा कि छत पर मांसाहार बनाने के लिए चूल्हा है। वहीं केरोसिन रखा रहता है। पीछे से राजा ने मुझ पर तेल फेंका और आग लगा दी। उसके साथ एक और लड़का था, जिसे मैं नहीं जानती। उस समय मैं नायलन के कपड़े पहनी थी। छत पर ही टंकी के पास बहुत पानी था। मैं वहां छटपटा रही थी। राजा व उसके साथी ही अस्पताल ले गए। वहां जलने की वजह से किसी ने इलाज नहीं किया तो एक अस्पताल में छोड़ कर भाग गया…।

युवती ने आगे बताया कि एनसीसी कैंप जाने पर भी वह पीछा करता था। इसे 32 बिहार बटालियन एनसीसी के सीओ भी जानते थे। सीओ सर पूछे थे कि कौन लफंगा परेशान करता है। मैं जब बात नहीं करती थी तो वह गंदी-गंदी गाली देता था। मैं जानती थी कि मैं बात नहीं करूंगी तो वह मेरे परिवार वालों को भी मार डालेगा। फिर भी मैं बात नहीं करती थी।

युवती के परिजन का कहना है कि सुबह में सुधार की स्थिति थी। डॉक्टर ने बचने की संभावना भी जताई। लेकिन, शाम 7 बजे के बाद स्थिति खराब होने लगी। बार-बार हिचकी आने लगी।