सभ्य राजस्थान का बलात्कारी चेहरा, चुनाव के नशे में चूर गहलोत सरकार नींद में

0
1362
Gang Rape
Alwar Gang rape (Symbolic Pic from Internet)

महिलाओं के लिए भारतीय सभ्य समाज का चेहरा फिर सामने आया है तथा साथ ही राजस्थान पुलिस व प्रशासन की लाफवाही भी सामने आयी है अलवर के थानागाजी इलाके में पति को बंधक बनाकर पत्नी से गैंग रेप का वीडियाे वायरल हुआ तथा खबर मीडिया की मुख्य खबर बनी तो चुनाव के नशे में चूर गहलोत सरकार की नींद खुली है हालाँकि इसके बाद भी सिर्फ एक आरोपी को पकड़ा गया है।

अलवर के थानागाजी इलाके में पति को बंधक बनाकर पत्नी से गैंग रेप (gang rape) और वीडियाे वायरल होने के मामले में एसपी राजीव पचार को एपीओ किया गया है। हालांकि, कार्मिक विभाग ने इसके पीछे मुख्य रूप से प्रशासनिक कारण बताए हैं।
मामला यह है कि पति व पत्नी गांव लालवाड़ी से तालवृक्ष जा रहे थे। थानागाजी-अलवर बाईपास रोड पर दुहार चौगान वाले रास्ते में 5 युवकों ने उन्हें रोका और पति काे बंधक बनाकर मारपीट की व पत्नी से गैंग रेप (gang rape) कर वीडियाे बना लिया।
इसके अलावा लापरवाही बरतने के कारण थानागाजी थाने के प्रभारी सरदार सिंह को सस्पेंड किया गया है और एएसआई रूपनारायण, सिपाही राम रतन, महेश कुमार व राजेंद्र काे लाइन हाजिर किया गया है।

राजस्थान के डीजीपी ने भी मामले में मंगलवार को जयपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि थानागाजी थाने के सभी पुलिसकर्मियों की भूमिका की जांच होगी। इसके लिए टीम बनाई गई है। पांच आराेपियाें में से प्रयागपुरा निवासी 22 वर्षीय इन्द्रराज गुर्जर काे गिरफ्तार कर लिया गया है तथा एक युवक मुकेश गुर्जर को वीडियो वायरल करने के मामले में पकड़ा है। अन्य नामजद आरोपी छोटेलाल, अशोक, महेश व हंसराज को पकड़ने के लिए अलवर, जयपुर ग्रामीण, दौसा जिलों के पुलिसकर्मियों की 14 टीमें लगाई गई हैं। सरकार ने पीड़िता को 4.12 लाख की आर्थिक सहायता दी है।

यह घटना 26 अप्रैल को हुई थी, लेकिन पुलिस ने चुनाव के कारण इसे दबाए रखा और कोई उचित कर्यवाही नहीं की।

पीड़ित पति-पत्नी 30 अप्रैल काे अलवर एसपी के पास पहुंचे थे। इसके बाद थानागाजी पुलिस थाने में 2 मई काे मामला दर्ज किया गया। वीडियो वायरल होने पर घटना 6 मई को सार्वजनिक हुई। आईजी सेंगाथिर ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी इन्द्रराज ट्रक ड्राइवर है। वह 26 अप्रैल को थानागाजी स्थित अपने ससुराल आया था। यहां अपने साथी छोटेलाल, अशोक, महेश व हंसराज से मिला। तभी उनकी नजर बाइक पर जा रहे दंपती पर पड़ गई। उसके बाद उन्होंने अन्य साथियों को भी वहां बुला लिया और दंपती का पीछा शुरू कर दिया। पांचों ने मिलकर दंपती को रोका और वारदात को अंजाम दिया। फरार आरोपियों में दो नारायणपुर, दो थानागाजी व एक बानसूर का रहने वाला है।
अब बात यह भी सामने आयी है कि आरोपियों ने पीड़ित दंपती से वीडियो वायरल करने की धमकी देकर पैसे भी वसूल लिए। इस बीच, आरोपियों ने फिर पैसों की डिमांड की तो परेशान दंपती पुलिस तक पहुंचे।

पुलिस द्वारा किसी भी स्तर पर लापरवाही या अनियमितता पाए जाने पर सख्त कार्यवाही : गहलोत
मुख्यमंत्री ने मामले की कड़ी निंदा करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि पुलिस द्वारा किसी भी स्तर पर लापरवाही या अनियमितता पाए जाने पर सख्त कार्यवाही होगी। महिला सुरक्षा के प्रति सरकार पूर्णतया प्रतिबद्ध है।

दुष्कर्म की यह घटना राजस्थान के लिए बेहद शर्मनाक : वसुंधरा
पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने भास्कर की खबर को रिट्वीट करते हुए लिखा- सामूहिक दुष्कर्म की यह घटना प्रदेश के लिए बेहद शर्मनाक है। ऐसे जघन्य अपराध कांग्रेस सरकार के महिला व बेटियों को सुरक्षित माहौल देने के दावों की पोल खोल रहे हैं।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इस्तीफा दे: मदनलाल सैनी
उधर, भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी ने इस घटना की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इस्तीफा देने की मांग की है। यह वीभत्स घटना निंदनीय है. इस मामले में मुख्यमंत्री को कार्रवाई करनी चाहिए। इतने दिनों तक मामले को दबाये रखने के लिए मुख्यमंत्री जिम्मेदार हैं।