एक थे Dancer Queen हरीश, जिनकी पहचान औरत की वेश-भूषा और नृत्य

0
958
क्वीन हरीश Dancer Queen
(Dancer Queeen) Picture from zeenews.india.co

वैसे तो राजस्थान में कला और कलाकारों की कोई कमी नहीं है परन्तु एक ऐसा कलाकार जो औरत की वेश भूषा में अपनी कला के लिए देश-विदेश में प्रसिद्ध था उनको लोग डांसर क्वीन हरीश (Dancer Queen) के नाम से जानते है। हरीश की रविवार को सड़क हादसे में मौत हो गई।

हरीश जैसलमेर के रहने वाले थे तथा दुनियाभर के पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय हो चुके थे। बड़ी संख्या में पर्यटक हरीश का लोकनृत्य देखने के लिए जैसलमेर आते थे। उनका प्रस्तुति कुछ फिल्मों में भी शामिल की गई थीं। इसके अलावा हरीश ने लोकनृत्य के कोरियोग्राफर के रूप में भी पहचान बनाई।

सूत्रों के अनुसार 38 साल के डांसर क्वीन हरीश (Dancer Queen) समेत चार लोगों की  सड़क हादसे में मौत हो गई, जबकि पांच जख्मी हो गए। हरीश टीम के सात लोगों के साथ जैसलमेर से जयपुर जा रहे थे। इसी दौरान उनकी कार और ट्रक की आमने-सामने टक्कर हो गई।

गौरतलब है कि डांसिंग क्वीन के नाम से मशहूर हरीश राजस्थानी लोकनृत्य के चकरी, भवाई, तराजू, तेरह ताली, घूमर, चरी, कालबेलिया शैलियों में नृत्य करते थे।

डांसर क्वीन हरीश बनने का सफर

यदि हरीश के जीवन पर नजर डाले तो पता चलता है की उनके माँ बाप की मौत के बाद हरीश के ऊपर उनकी बहनों की जिम्मेदारी भी आ गई इसके बाद हरीश ने औरत के वेश ने डांस करना शुरू किया। पहले तो लोगों ने मजाक बनाना शुरू किया परन्तु उसके बाद उनकी ख्याति देश-विदेश में बढ़ती गई और वो डांसर क्वीन हरीश (Dancer Queen Harish) बन गए।

हरीश ने प्रकाश झा की ‘जय गंगाजल’ फिल्म में अपने नृत्य की प्रस्तुति दी है।

वे 60 देशों में नृत्य प्रस्तुतियां दे चुके थे। उन्हें कई अंतरराष्ट्रीय सम्मान मिले थे। अकेले जापान में ही उनके दो हजार से ज्यादा शिष्य बताए जाते हैं।

उनकी मौत से कलाकारों में शोक छाया हुआ है। राजस्थान के मुख्यमंत्री ने भी उनकी मौत पर शोक गहरा जताया है।