BCCI Equal Pay: महिला क्रिकेट टीम के लिए BCCI का बड़ा एलान, अब पुरुषों के बराबर मिलेगी फीस

BCCI Equal Pay: राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने बीसीसीआई के इस दिल छू लेने वाले फैसले का स्वागत किया है. एनसीडब्ल्यू की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस फैसले को महिला क्रिकेट के लिए बड़ी जीत करार देते हुएकहा कि यह भारत में महिला क्रिकेटरों के लिए ऐतिहासिक दिन है. रेखा शर्मा ने कहा कि आखिर महिला क्रिकेटरों की आवाज को सुना गया.

0
52
BCCI Equal Pay
BCCI Equal Pay: महिला क्रिकेट टीम के लिए BCCI का बड़ा एलान, अब पुरुषों के बराबर मिलेगी फीस

BCCI Equal Pay: बीसीसीआई ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए अपने केंद्रीय अनुबंधित पुरुष और महिला क्रिकेटरों को एक समान मैच फीस देने की घोषणा की है. बीसीसीआई के फैसले का पुरुष एवं महिला क्रिकेटरों ने स्वागत किया है. राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने बीसीसीआई के इस फैसले को स्वागत योग्य बताया है.

BCCI Equal Pay: भारत में महिला क्रिकेटरों के लिए आज (27 अक्टूबर) का दिन बेहद खास बन गया है. भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (BCCI) ने अब केंद्रीय अनुबंधित पुरुष और महिला क्रिकेटरों को एक समान मैच फीस देने की घोषणा की है. नई पॉलिसी के अनुसार भारतीय महिला क्रिकेटरों को अब प्रत्येक टेस्ट के लिए 15 लाख, प्रत्येक वनडे इंटरनेशनल के लिए छह लाख और प्रत्येक टी20 इंटरनेशनल मुकाबले के लिए तीन लाख रुपये मिलेंगे. ये रकम पुरुष खिलाड़ियों को मिलने वाली मैच फीस के बराबर है.

राष्ट्रीय महिला आयोग ने किया स्वागत

BCCI Equal Pay: राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने बीसीसीआई के इस दिल छू लेने वाले फैसले का स्वागत किया है. एनसीडब्ल्यू की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस फैसले को महिला क्रिकेट के लिए बड़ी जीत करार देते हुएकहा कि यह भारत में महिला क्रिकेटरों के लिए ऐतिहासिक दिन है. रेखा शर्मा ने कहा कि आखिर महिला क्रिकेटरों की आवाज को सुना गया.

BCCI Equal Pay: एनसीडब्ल्यू ने बयान में कहा, ‘महिला क्रिकेटरों को उनके पुरुष के बराबर मैच फीस मिलने से नए युग की शुरुआत होगी और लैंगिक समानता हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है.’आयोग ने उम्मीद जताई कि इस फैसले से युवा प्रतिभा को खेल में अपने जुनून को आगे बढ़ाने की प्रेरणा मिलेगी और अन्य खेल संगठनों को बीसीसीआई के इस फैसले से सीख लेनी चाहिए.

बीसीसीआई के फैसले का क्रिकेटर्स भी स्वागत कर रहे हैं. युवराज ने ट्वीट किया, ‘बीसीसीआई का सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट में बंधे पुरुषों और महिलाओं को समान वेतन देन का यह शानदार फैसला है. यह अधिकारियों की प्रगतिशील मानसिकता को दर्शाता है और यह काफी लोगों को इस खेल को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करेगा.

भारतीय महिला टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने लिखा, ‘महिलाओं और पुरुषों के लिए घोषित वेतन समानता के साथ ही भारत में महिला क्रिकेट के लिए एक ऐतिहासिक दिन है. बीसीसीआई और जय शाह को धन्यवाद.’

पूर्व स्पिनर हरभजन सिंह ने ट्वीट किया, ‘बीसीसीआई ने अन्य खेल निकायों के लिए एक उदाहरण पेश किया है. इससे क्रिकेट में महिलाओं की और ज्यादा भागीदारी को प्रोत्साहन मिलेगा. वास्तव में यह ऐतिहासिक फैसला मील का पत्थर है.

पूर्व कप्तान मिताली राज लिखती हैं, ‘यह भारत में महिला क्रिकेट के लिए एक ऐतिहासिक निर्णय है. अगले साल वूमेन्स आईपीएल तो होना ही है. इसके साथ-साथ अब एकसमान वेतन नीति भी लागू हो गई है. निश्चित ही हम भारत में महिला क्रिकेट के एक नए युग की शुरुआत कर रहे हैं. बीसीसीआई और जय शाह को इस फैसले के लिए धन्यनवाद.’

बीसीसीआई ने जो नई नीति लागू की है, वह सिर्फ मैच फीस को लेकर है. सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट को लेकर नहीं है. यानी सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में अब भी महिला और पुरुषों के बीच काफी बड़ा अंतर है. जहां पुरुषों के लिए चार कैटेगरी है, तो वहीं महिलाओं के लिए सिर्फ तीन ही कैटेगरी निर्धारित हैं.

पुरुष क्रिकेटर्स को ए कैटेगरी में 5 करोड़ रुपये सालाना मिलते हैं. जबकि महिलाओं में ए कैटेगरी वाली खिलाड़ियों को सिर्फ 50 लाख रुपये ही मिलते हैं. यानी यहां 10 गुना का अंतर है. इसी तरह बी और सी कैटेगरी में भी इतना ही अंतर है. जबकि ए+ कैटेगरी वाले पुरुष खिलाड़ियों को 7 करोड़ रुपये सालाना मिलते हैं.

पुरुष कॉन्ट्रैक्ट: कैटेगरी A+ (7 करोड़ रुपये), कैटेगरी A (5 करोड़ रुपये), कैटेगरी B (3 करोड़ रुपये) और कैटेगरी C (1 करोड़ रुपये).
महिला कॉन्ट्रैक्ट: कैटेगरी A (50 लाख रुपये), कैटेगरी B (30 लाख रुपये) और कैटेगरी C (10 लाख रुपये).