पुरुषों के सामने महिलायें चप्पल हाथ में उठा कर चलती है

0
1182
महिलाओं के प्रति लोगों की सोच आज भी तिरस्कार की है उनका सोचना है की महिलायें घूंघट निकले पुरुषों का हर कहा माने । मगर इससे भी बुरी बात मध्य प्रदेश के चंबल क्षेत्र में आने वाले एक गांव आमेठ की है ।
इसमें महिलाएं मर्दों के सामने चप्पल उतार कर नंगे पैर चलती हैं। इस गांव में महिलाओं की संख्या लगभग पांच सौ है। जब महिलायें गावं में से पानी या कुछ और सामान लेकर निकलती है। तो एक हाथ से चप्पल और दूसरे से सामान उठती है।
पुरुष इसे पुरखों की परंपरा बताते हैं वो कहते है की इससे पुरषों की इज्जत होती है। यह रिवाज पहले सिर्फ निचली जाति की औरतों के लिए ही था । मगर बाद में ये सभी जातियों की औरतों के लिए ज़रूरी कर दिया।
अब कुछ युवा इसके खिलाफ होते जा रहे है। इन सब को देख कर यही लगता है की आज भी ऐसी भेदभाव वाली परम्पराओं को महिलाओं पर जबरदस्ती थोपा जा रहा है ।