देश के करीब 80 फीसदी लोग घर में कम से कम एक बेटी चाहते हैं

0
598

भारत में लोगों की सोच में बदलाव आ रहा है क्योंकि यहां कन्या भ्रूण हत्या बड़ी तादाद में होती थी और अब इसमें सुधार आ रहा है देश के करीब 80 फीसदी लोग घर में कम से कम एक बेटी चाहते हैं। हाल में जारी नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के आंकड़ों में बताया गया है इसमें और अधिक सुधार की जरूरत है सरकार और समाज को इस क्षेत्र में ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

इस सर्वे के अनुसार 15 से 49 साल की 79 फीसदी महिलाएं और 15 से 54 साल के करीब 78 फीसदी पुरुष यह मानते हैं कि घर में कम से कम एक बेटी होनी चाहिए। सर्वे में यह अच्छी बात सामने आई है कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, मुस्लिम, ग्रामीण लोग और आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के ज्यादा लोग यह चाहते हैं कि घर में बेटी होनी चाहिए। इन लोगों में कन्या भ्रूण हत्या कम होती है।

हम सोचते है की पढ़े-लिखे लोग अनपढों की तुलना में बेटी की अहमियत ज्यादा समझते है मगर इसका उल्टा शहरी और पढ़े-लिखे लोगों की तुलना में ग्रामीण और अनपढ़ लोग बेटी बेटी को ज्यादा चाहते हैं।जबकि इसमें शहरियों की तादाद कम है सर्वे के अनुसार 81 फीसदी ग्रामीण महिलाएं घर में बेटी चाहती हैं, जबकि 75 फीसदी शहरी महिलाएं ही बेटी चाहती हैं। अशिक्षित महिलाओं का 85 फीसदी हिस्सा यह चाहता है कि घर मे बेटी हो, जबकि बारहवीं पास सिर्फ 72 फीसदी महिलाएं ऐसा चाहती हैं।लड़कियों की की हत्या का मामला शहरो में बढ़ता जा रहा है।