ऑफिस जाने वाली महिलाओं को पुरुषों से ज्यादा होता हैं तनाव, पढ़े खबर

0
617

आज के समय में आपके जीवन में तनाव आना एक आम बात हो गई है। वैसे तो तनाव हर इंसान को होता है लेकिन कामकाजी महिलाओं में तनाव की मात्रा अधिक पाई जाती हैं। ऐसा माना जाता है कि पुरुषों की अपेक्षा कामकाजी महिलाओं के ऊपर ज्यादा जिम्मेदारी होती है। उन्हें अपने ऑफिस के काम के अलावा घर के काम भी करने होते हैं और मां बनने के बाद उनकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है जिसकी वजह से घर और ऑफिस के बीच तालमेल बिठाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस स्थिति में तनाव होना स्वभाविक है।

तनाव के कारण
…………………….

•घर और ऑफिस दोनों के कामों में तालमेल बिठाने, घर के किसी भी व्यक्ती की मदद न मिलने और सारा काम स्वयं करने की जिम्मेदारी के कारण भी कामकाजी महिलाओं में तनाव बढ़ने की संभावना होती है।

•एक सर्वे में पता लगा है कि ज्यादातर कामकाजी महिलाएं ऑफिस में काम के दौरान सोशल नेटवर्किंग साइट्स का ज्यादा उपयोग नहीं कर पाती हैं और घर आने के बाद फोन में लगी रहती हैं जिसकी वजह से वे जल्द ही अनिद्रा की शिकार हो जाती हैं और फिर उन्हें तनाव होने लगता है।

•ऑफिस में अपने सहकर्मी से आगे निकलने की प्रतिस्पर्धा, बॉस को खुश करने में, अच्छे परफॉर्मेंस देने के कारण भी कामकाजी महिलाओं में तनाव होता है।

•पति का पूर्ण तरह से सहयोग न मिल पाने के कारण भी कामकाजी महिलाएं तनाव का शिकार हो जाती हैं।

तनाव से निजात पाने के उपाय
……………………………………….

– तनाव से बचने के लिए यह बहुत जरूरी है कि आप अपना समय घर और ऑफिस को ध्यान में रखकर मैनेज करें। अपने जरूरी कामों को समय दे जो काम आपके लिए ज्यादा जरूरी है, उन्हें उचित प्राथमिकता दें।

– आप सारे काम नोट करें जरूरी काम के चक्कर में आप अपनी नींद भी पूरी नहीं कर पाती और समय से पहले ही उठ जाती हैं। अगर आप चाहती हैं कि ऐसा न हो तो आप अपने बिस्तर के सिरहाने एक नोटपैड या फोन रख लें जिसमें आपने नोट किया हैं। इससे अपनी नींद पूरी भी कर लेंगी और समय से उठ भी जाएंगी।

– जरूरत से ज्यादा सोचने से दिमाग काम करना बंद कर देता है। ऐसा करने से कई बार दिमागी और मानसिक परेशानी होने लगती हैं। जब भी आपको किसी बात की चिंता सताये तो उसको अपने किसी मित्र या परिवार वालों के साथ शेयर करे और जितना हो सके कम सोचें।