एमसी मेरी कॉम ने रचा इतिहास, छठी बार जीता विश्व चैंपियनशिप ख़िताब

0
833

नई दिल्ली: शनिवार को ओलंपिक कांस्य पदक विजेता भारत की दिग्गज मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम ने अपना छठा विश्व चैम्पियनशिप खिताब जीत लिया। 35 साल की मेग्नीफिसेंट मैरी नाम से मशहूर मैरी कॉम ने यहां इंदिरा गांधी स्टेडियम के के.डी. जाधव हॉल में चल रहे 10वे आईबा महिला विश्व चैम्पियनशिप के 48 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में यूक्रेन की हना ओखोटा को 5-0 से मात देकर स्वर्ण पदक पर कब्जा किया।

विश्व चैम्पियनशिप में यह मैरी कॉम का छठा स्वर्ण और कुल आठवां पदक है। मैरी कॉम ने इतिहास रचकर विश्व चैम्पियनशिप में छह स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली महिला मुक्केबाज बन गई हैं। इससे पहले आयरलैंड की कैटी टेलर ने ने 60 किलोग्राम भारवर्ग में 2006 से 2016 के बीच पांच स्वर्ण पदक अपने नाम किए थे। इन्होने कांस्य पदक भी अपने नाम किया है।                                                                                           छह स्वर्ण और एक रजत जीत कर मैरी कॉम ने क्यूबा के फेलिक्स सेवोन (91 किलोग्राम भारवर्ग) की बराबरी की। 1986 से 1999 के बीच फेलिक्स ने छह स्वर्ण और एक रजत पदक जीता था। मैरी कॉम इस जीत के बाद बहुतभावुक हो गईं। मैरी ने कहा, मैं इस जीत के लिए अपने सभी प्रशंसकों का आभार व्यक्त करती हूं, जो मुझे यहां समर्थन करने के लिए आए। मेरे लिए यह महान पल है।