हनी ट्रेप: आईएसआई की महिला एजेंट ने अपने हुस्न से फेसबुक फ्रेंड बनकर सेना के 45 जवान फंसाए

0
1077

जैसलमेर के सेना जवान सोमवीर से पूछताछ करने पर कबूल किया है कि वह सोशल मिडिया के माध्यम से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के अधिकारियों से संपर्क में था। इस दौरान उसने सामरिक महत्व की सूचनाएं भी उनको दी।

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी की ओर से इस एवज में सोमवीर को पैसे दिए जाने की बात भी सामने आई है। आरोपी जवान के खिलाफ स्पेशल पुलिस स्टेशन जयपुर में शासकीय गुप्त बात अधिनियम 1923 में मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया था।

सेना के जवान सोमवीर जो कि राज्य विशेष शाखा, जयपुर की ओर से सेना जैसलमेर में कार्यरत रहते हुए पाकिस्तान की खुफिया एजेन्सी की महिला एजेन्ट से निरंतर सम्पर्क में रहने और धन के लालच में सामरिक महत्व की सूचनाएं साझा करने के मामले में गिरफ्तार किया था।

 राज्य विशेष शाखा के अधिकारियों की स्पेशल टीम व आर्मी इंटेंलीजेन्स जोधपुर की ओर से सोमवीर की सोशल मीडिया पर संदिग्ध गतिविधियों पर संयुक्त रूप से बहुत समय से निगरानी रखी जा रही थी।

 सोमवीर इस महिला एजेन्ट से अपने प्रशिक्षण के समय से ही सम्पर्क में आ गया था। महिला एजेन्ट सोमवीर को इस जाल में फंसा कर फेसबुक, व्हाट्सऐप आदि के माध्यम से सेना की सारी जानकारी प्राप्त कर रही थी।

जवान को सात दिन के रिमांड पर सौंपा-
शनिवार को राज्य विशेष शाखा ने हनी ट्रैप मामले में गिरफ्तार जवान सोमवीर को न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे सात दिन के रिमांड पर भेज दिया। सोमवीर 2016 में सेना में भर्ती हुआ था और जनवरी 2018 में फेसबुक से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी की महिला एजेंट के संपर्क में आया था। पैसे के लालच में आकर आरोपी ने भारतीय सेना की सामरिक सूचनाएं वाट्सऐप और फेसबुक के जरिए पाकिस्तान की महिला एजेंट को दी।